भाजपा-कांग्रेस में जिस हार्दिक पटेल को लेकर तलवारें खिंची हैं आप उनके बारे में ये जानते हैं?

अभी इन दिनों राजनैतिक गलियारों में हार्दिक पटेल को लेकर एक बार फिर से माहौल बना है | पटेलों के हक में आवाज उठाकर हार्दिक जनता के सामने पहले बार आन्दोलन करके सामने आये थे | अब एक साधारण सी फॅमिली से उठकर आने वाला लड़का जब ऐसे काम करके मानक बना देता है तो पूरी दुनिया उसे सराहती है !

क्या थी हार्दिक की लाइफ

गुजरात के रहने वाले हार्दिक पटेल एक साधारण से सामान्य माध्यम वर्ग के परिवार से ताल्लुकात रखते हैं | ऐसे परिवार अक्सर पूरी जिन्दगी काम करते हुए गुजार देते हैं और सोहरत इनके हाथ नहीं लगती !

हार्दिक भी कुछ समय तक ऐसी ही जिन्दगी जी रहे थे | दूर दूर तक राजनीती से सरोकार नहीं था और आज जिस मुकाम पर वो है उससे उनके चाहने वाले खुश है क्योकि वो काम अच्छा कर रहे हैं | इन्होने पटेल समुदाय के लिए नौकरियों में आरक्षण की मांग करते हुए आन्दोलन किया था |

पढाई लिखाई में खास नहीं थे

आज हार्दिक को पटेल समुदाय मसीहा के तौर पर देखता है लेकिन एक समय ऐसा था जब उनके परिवार और पडोसी ये सोचते थे कि ये जीवन में कुछ नहीं कर पायेगा क्योकि ये पढाई-लिखाई में काफी कमजोर थे और इतने लोकप्रीय नेता होना का तो किसी ने नहीं सोचा था |

हार्दिक ने अपनी डिग्री भी बमुश्किल 50 प्रतिशत अंकों से पास की ! लेकिन इतना सब होने पर भी आज वो पटेल समुदाय के नेता और मसीहा बने हुए है |

हाँ पढ़ाई से इतर हार्दिक क्रिकेट का ख़ासा शौक रखते हैं | हार्दिक के दोस बताते हैं कि वो ज्यादा नहीं बोला करते थे बल्कि शांत स्वाभाव के थे लेकिन उनमे नेतृत्व करने की क्षमता शुरू से ही थी ! स्कूल के दौरान किसी सरपंच की तरह दोस्तों के मामले निपटाया करते थे !

बहन से करते हैं बहुत ज्यादा प्यार

हार्दिक की बहन का नाम मोनिका पटेल है और हार्दिक उसे बहुत ज्यादा प्यार करते हैं ! मोनिका ने जब बारहवीं पास की तो 84 प्रतिशत अंक हासिल किये थे लेकिन इसके बाबजूद भी राज्य सरकार जो स्कॉलरशिप देती है वो मोनिका को नहीं दी गयी ! वहीँ मोनिका की एक सहेली जिसके 81 प्रतिशत अंक आये थे उसे आरक्षित वर्ग का होने के कारण स्कालरशिप दी गयी थी !

हार्दिक पटेल को ये बात बहुत ज्यादा अखर गयी ! उसपे भी बड़ी बात ये थी कि मोनिका अपने जिले की टोपर थी फिर भी स्कालरशिप से वंचित रही ! इसी के चलते आरक्षण का मुद्दा हार्दिक ने उठा लिया और फिर तो जो आग आरक्षण को लेकर हार्दिक ने लगायी उससे राज्य सरकार क्या बल्कि केंद्र सरकार तक हिल गयी और हर राज्यों में ऐसी मांगें होने लगी |

हार्दिक एक बहुत बड़े समुदाय के नेता के तौर पर आये हैं और उनकी रैलियों में खासी भीड़ होती है इसलिए ही तमाम राजनैतिक दल उन्हें अपना प्रतिद्वंदी मानने लगे हैं !

देखिये वीडियो:-

source-http://aajtak.intoday.in/gallery/hardik-patel-sister-monika-reason-patidar-reservation-agitation-gujrat-ttre-1-15598.html

 

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट मैं छोड़े

पोपुलर खबरें