अयोध्या मामले पर बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी को सुप्रीमकोर्ट से मिला बड़ा झटका, जानें

पूजा की अनुमति मांगने पर सुप्रीमकोर्ट ने बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी को दिया झटका

एक लम्बे आरसे से चल रहा अयोध्या विवाद का मामला यूँ तो सुप्रीमकोर्ट में हैं लेकिन बावजूद इसके अक्सर धर्म के ठेकेदार बने बैठे आरएसएस कार्यकर्ताओं और बीजेपी नेताओं की और से इस मुद्दे पर कोई न कोई अटपटा बयान सुनने को मिल ही जाता है.

1. सुब्रमण्यम को मिला अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट से झटका 

बीजेपी नेता भी आये दिन किसी न किसी बहाने से सुप्रीमकोर्ट की कार्यवाही में रोड़ा अटकाने का काम करते नज़र आ जाते है. ऐसा ही कुछ इन दिनों उस वक़्त देखने को मिला जब बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कथित अयोध्या स्थित राम जन्मभूमि पर पूजा के अपने ‘मूल अधिकार’ का हवाला देते हुए वहां पूजा लागू करने की अपील सुप्रीम कोर्ट में की.

उन्होंने इसी मामले को लेकर बीते सोमवार सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध किया कि उनकी इस याचिका पर फौरन सुनवाई हो. लेकिन बीजेपी और सुब्रमण्यम स्वामी को सुप्रीम कोर्ट ने ऐसा झटका दे दिया है जिसके बाद वो अब फिर कभी कोर्ट के काम में बाधा नहीं डालेंगे.

2. विवादित भूमि पर पूजा-अर्चना को लेकर स्वामी गया था कोर्ट

दरअसल, अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद मामले में बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी की अर्जी पर सुनवाई फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने टाल दी है. जी हाँ सीजेआई दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली एक पीठ के सामने जब मंगलवार को सुब्रह्मण्यम स्वामी ने अपनी अर्जी का जिक्र करते हुए कहा कि,

“पूजा के अधिकार को लेकर उनकी अर्जी सुप्रीम कोर्ट में लंबित है, लिहाजा उनकी अर्जी पर जल्द सुनवाई होनी चाहिए.”

3. तुरंत सुनवाई करने से कोर्ट ने किया इनकार

इस पर जवाब देते हुए चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा कि

“अभी अर्जी पर सुनवाई नहीं की जा सकती, आप ये मसला बाद में उठाएं, अभी मुख्य मामले पर सुनवाई लंबित है.”

4. इससे पहले भी कोर्ट ने जल्द सुनवाई करने से किया था इनकार

गौरतलब है कि अयोध्या में भगवान राम की पूजा का हक मांगने वाले स्वामी की अर्जी पर इससे पहले भी सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करने से इनकार कर दिया था. बता दें कि बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने बीते 23 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट में रामजन्म भूमि पर पूजा अर्चना के लिए एक मुख्य अर्जी दायर की थी.

5. पहले भी कोर्ट ने ठुकराई थी अर्जी 

अपनी इस अर्जी में भी स्वामी ने पूजा-अर्चना करने के अपने मूल अधिकार को लागू कराने के लिए उस पर जल्द सुनवाई का कोर्ट में अनुरोध किया था. जिसके जवाब में उस वक़्त भी सुप्रीम कोर्ट में सीजेआई दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ की तरफ से ये कहा कि जुलाई में अदालत आएं हम देखेंगे कि हम इस पर क्या कर सकते हैं.

-निष्कर्ष 

सुप्रीमकोर्ट से बीजेपी को उस वक़्त झटका मिला हैं जब अयोध्या मुख्य मामले की सुनवाई आने वाली 5 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में होनी है. ऐसे में ठीक उससे पहले अयोध्या विवादित भूमि पर पूजा-अर्चना को लेकर दायर की गई अर्जी पर जब अब सुप्रीम कोर्ट कोई ख़ासा रूचि लेती नहीं नज़र आ रही है तो ऐसे में 5 जुलाई को होने वाली मुख्य मामले की सुनवाई अब बेहद दिलचस्प होती नज़र आ रही है.

story source : https://www.patrika.com/miscellenous-india/supreme-court-denies-urgent-hearing-to-perform-puja-in-ayodhya-3044961/

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

Leesha Senior Reporter

यह खबर वायरल इन इंडिया के वरिष्ट पत्रकार के द्वारा लिखी गयी है| खबर में कोई त्रुटी होने पर हमें मेल के द्वारा संपर्क करें- [email protected] आप हमें इस फॉर्म से भी संपर्क कर सकते हैं, 2 घंटे में रिप्लाई दिया जायेगा |
Close