RELATED:अगर सुप्रीम कोर्ट ने ये विडियो देख लिया तोह...

सुधीर चौधरी, नाम तो सुना ही होगा? रोज़ रात को प्राइम टाइम देखते हुए अगर आप जी न्यूज़ ओपन करेंगे तो ये आपको वहा बीजेपी के नेताओं की वकालत करते हुए नज़र आ जायेंगे l ज़ी न्यूज़ कहने को एक न्यूज़ चैनल है लेकिन यहा आप बीजेपी के समर्थन में एंकर्स और पत्रकारों को खबर बाचते हुए पाएंगे l बहरहाल, सुधीर चौधरी ने हाल ही में कुछ ऐसे कमेंट्स उन पत्रकारों पर दागे है जो अपनी पत्रकारिता के ज़रिये बीजेपी के नेताओ (किरण रिजिजू) से जूते खाने की धमकी तक खा चुके है l

तो जी न्यूज़ के एंकर सुधीर चौधरी का कहना है की आज कल ‘टीवी पत्रकारों और कलाकारों में अंतर काफी कम होता जा रहा है क्योंकि वो एक खबरवाचक से ज्यादा एक मनोरंजन का साधन बन चुके है’. क्या आप सहमत है सुधीर के इस वाक्य से?

सुधीर चौधरी के रवीश कुमार को कमेंट्स

सुधीर चौधरी का इतिहास!

जी न्यूज़ के पत्रकार सुधीर चौधरी का एक ऐसे विवाद से गहरा सम्बन्ध है जिससे चाह कर भी वो मुकर नहीं सकते l कुरुक्षेत्र के पूर्व सांसद नवीन जिंदल ने 2012 में ज़ी न्यूज़ पर आरोप लगाया था कि चैनल ने उनसे खबर न दिखाने के एवज में 100 करोड़ रुपये की मांग की थी l जिंदल के अनुसार चैनल ने कोयला घोटाले में जिंदल के शामिल होने से जुड़ी खबर न चलाने के लिए फिरौती के तौर पर ये रकम मांगी थी l

जिंदल ने स्टिंग ऑपरेशन की खबर की सीडी जारी करते हुए कहा था,  “जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी और जी बिजनेस के संपादक समीर अहलूवालिया ने हमारी टीम से कहा कि वे तब तक हमारे खिलाफ नकारात्मक खबरें दिखाते रहेंगे, जब तक कि हम उन्हें 100 रुपए का विज्ञापन देने पर सहमति नहीं जताते.”

इसी दौरान सधीर साब जेल का हवा भी खा कर आ चुके है l अब बात करते है रविश कुमार की जो इस वक़्त सुधीर चौधरी जैसे कई पत्रकारों की आँखों में खटक रहे है l

ज़ी न्यूज़ का बीजेपी कनेक्शन

जिस चैनल ने जेएनयू में देश विरोधी के फर्जी मामले को दिखाते हुए सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए थे उसने अपना बीजेपी ISI कनेक्शन में चुप्पी साध ली थी और सोशल मीडिया ने इस बात पर चुटकी लेते हुए ये कह डाला की सबसे ज्यादा हो-होल्ला करने वाले जी न्यूज के पत्रकार ऐसे खामोश जैसे उनकी बीबी का अफेयर पकड़ा गया हो।

--- ये खबर वरिष्ठ पत्रकार के द्वारा लिखी गयी है वायरल इन इंडिया न्यूज़ पोर्टल के लिए

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट मैं छोड़े