होम Indian Media

Video: मुसलमानों के चहेते ओवैसी का ये वीडियो देख मोदी के भी निकल जायेगे पसीने

वायरल इन इंडिया संवाददाता -
शेयर करें

आल इंडिया मंजलिश-ए-इत्तेहादुल मुस्लिम के राष्ट्रीय सदर और अपनी पार्टी के एक मात्र सांसद असदुद्दीन ओवैसी अक्सर सरकारों पर निशाना साधने और मुसलमानों के हक़ के मुद्दे उठाने से कभी पीछे नहीं हटते हैं।

 

मुसलमानों को हक़ दिलाने के लिए किसी से भी भीड़ जाते हैं ओवैसी

ओवैसी हमेशा गलत बातों के खिलाफ अपनी आवाज उठाने को लेकर भी आए दिन सुर्ख़ियों में रहते हैं.  चाहे उसका परिणा कुछ भी हो।

केंद्र की मोदी सरकार पर हमेशा से हमलावर रहने वाले असदुद्दीन ओवैसी मुसलमानों के बीच एक बहुत बड़ा और इज्जतदार चेहरा है। जो तथ्यों और सबूतों के साथ शरीयत की हिफाजत कर मुसलमानों को उनका हक दिलाने का काम बखूबी जानते हैं।

ओवैसी का एक अनोखा वीडियो लोगों के बीच हो रहा है वायरल

लेकिन इन दिनों असदुद्दीन ओवैसी का एक वीडियो बहुत तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमे मुसलमानों के हक़ को लेकर हमेशा सरकारों से लड़ने वाला ये सांसद खुद को स्वस्थ रखने के लिए मुक्केबाजी करते नजर आ रहा है।

आपको बता दें कि ये पहला मौका नहीं है जब असदुद्दीन ओवैसी अपने एक अलग अंदाज में नजर आये हो. अक्सर अपने तीखे और सटीक अंदाज को लेकर भी वो देश की मीडिया और सोशल मीडिया पर छाए रहते हैं. ऐसे में ओवैसी का ये नया अंदाज़ भी लोगों को काफी आकर्षित कर रहा है.

 

कुछ ही घंटों में लाखों लोगों ने देखा वीडियो

इसमें कोई दोराय नहीं है कि ओवैसी के सभी दूसरे वीडियोज में से ये पहला ऐसा वीडियो है जो काफी तेजी से शेयर हुआ है, ये वीडियो फेसबुक के एक फैन पेज “असदुद्दीन ओवैसी फैन्स” पर डाला गया था जिसके बाद इस वीडियो को देखने वालों की संख्या कुछ ही घंटों के अंदर लाखों में पहुच गई, और ये सिर्फ यही तक सीमित नहीं हुआ महज कुछ घंटों के अंदर इस वीडियो को 42 हजार लोगों द्वारा शेयर किया गया।

देश के युवाओं में काफी लोकप्रिय है ओवैसी

असदुद्दीन ओवैसी अपनी इस तरह की क्रियाओं को लेकर हमेशा से देश के युवाओं में काफी लोकप्रिय रहे हैं। गत पांच दशकों में मजलिस और उसे चलने वाले ओवैसी परिवार की शक्ति रफ्ता-रफ्ता इतनी बढ़ी है कि हैदराबाद पर पूरी तरह उसी का नियंत्रण है।

ओवैसी की पार्टी देश का सबसे बड़ा मुस्लिम राजनैतिक संगठन है

जानकारी के लिए बता दें कि विधानसभा में ओवैसी की पार्टी के सदस्यों की संख्या बढ़ कर 7 हो गई है, विधान परिषद में भी उनके दो सदस्य हैं।

हैदराबाद लोक सभा की सीट पर 1984 से उसी का कब्ज़ा है और इस समय हैदराबाद के मेयर भी इसी पार्टी के है। मजलिस को आम तौर पर मुस्लिम राजनैतिक संगठन या मुस्लिम समुदाय के प्रतिनिधि के रूप में देखा जाता है।

हैदराबाद के मुसलमान बड़ी हद तक इसी पार्टी का समर्थन करते रहे हैं हालांकि खुद समुदाय के अन्दर से समय समय पर उस के विरुद्ध आवाजें भी उठती रही है।

जहां तक ओवैसी परिवार का सवाल है उस के हाथ में पार्टी की बागडोर उस समय आई जब 1957 में इस संगठन पर से प्रतिबंध हटाया गया।

देखिये वीडियो:-

शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े