वहां जनता कर्नाटक में वोट दे रही थी, और यहाँ पुलिस ने जड़ दिया छापा तो नज़ारे देख हैरान रह गए

शेयर करें

कर्नाटक चुनाव में अब महज कुछ दिनों की दूरी रह गई है, जिसे लेकर सभी पार्टियां भी अपनी अपनी कोशिशों में लग गई है। हालांकि जनता के मूड को लेकर सभी पार्टियां अलग अलग तरह के कयास लगा रहे हैं लेकिन इन सबका सही नतीजा तो 15 मई को चुनावों के नतीजे के साथ ही देखने को मिलेगा।

कर्नाटक चुनाव से पहले एक बेहद गंभीर मामला आया सामने

आपको बता कें कि कर्नाटक चुनाव होने से पहले ही प्रदेश से एक बड़ी खबर आ रही है जिसके सामने आने के बाद से ही काफी बवाल मच गया है। आपको बता दें कि कर्नाटक से आने वाली यह खबर लोगों के वोटर आई कार्ड से जुड़ी हुई है।

कर्नाटक चुनाव के लिहाज से बात करें तो मंगलवार रात बेंगलुरु के जलाहल्ली में स्थित एसएलवी पार्क व्यू अपार्टमेंट के एक फ्लैट से 9,746 वोटर आईडी कार्ड बदामद होने के मामले ने काफी जोर पकड़ लिया है। साथ ही चुनाव की तारीख नजदीक आने के साथ यह मामला बढ़ता जा रहा है।

बेंगलुरु के एक अपार्टमेंट से मिले 9,746 वोटर आईडी कार्ड

इस मामले के सामने आने से पार्टियों में भी काफी बवाल मच गया है साथ ही पार्टियां एक दूसरे पर आरोप मड़ रही है। बेंगलुरु के एसएलवी पार्क व्यू अपार्टमेंट के एक फ्लैट से 9,746 वोटर आईडी कार्ड मिलने के बाद कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया ने मीडिया से बातचीत की है।

मुख्यमंत्री सिध्दारमैया ने मीडिया पर दिया जवाब

सीएम सिद्धारमैया ने कहा कि चुनाव आयोग को इस मामले की जांच करनी चाहिए। मैं इस बारे में ज्यादा नहीं कह पाउंगा। सिद्धारमैया ने कहा ने आगे कहा कि कांग्रेस लगातार भाजपा सरकार के सर्विलांस पर है।

सिद्धारमैया  ने आगे कहा कि, मैं 12वीं बार चुनाव लड़ रहा हूं लेकिन यह पहली बार है जब चुनाव के समय पर छापे मारे जा रहे हैं। भाजपा सरकारी मशीन का दुरुपयोग कर रही है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने दी प्रतिक्रिया

आपको बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भारतीय जनता पार्टी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा हैं, जिस फ्लैट से वोटर आईडी कार्ड बरामद हुए वह फ्लैट भाजपा नेता मंजुला नंजामुरी के बेटे राकेश का है, जो बेंगलुरु के फ्लैट नंबर 115 में किराए पर रहता है। जहां से निर्वाचन आयोग को ये सभी कथित फर्जी वोटर आईडी कार्ड बरामद हुए थे।

चुनावों से पहले वोटर आईडी का मामला से खड़े हुए कई सवाल

चुनावों से ठीक पहले इस तरह की खबर आना अपने आप में कई सवाल खड़े करता है। क्योंकि अब कर्नाटक चुनाव में 2 दिन का भी समय नहीं रह गया है वहीं इस तरह पर्दे के पीछ राजनीतिक दल अपनी सत्ता लाने के लिए ऐसा कदम उठा रही है तो इससे मतदाताओं के जहन में भी सवाल उठना लाजमी है कहीं उनका वोट असुरक्षित तो नहीं।

बीजेपी की पूरे मामले पर चुप्पी

वहीं दूसरे नजरीये से देखे तो इस पर कांग्रेस की तरफ से तो तुरंत प्रतिक्रिया आई है लेकिन भारतीय जनता पार्टी मुंह बंद कर बैठी है। जहां बीजेपी नेताओं के पास रैलियां व चुनाव प्रचार प्रसार करने का समय है वहीं इतना बड़े मुद्दे पर किसी बीजेपी नेता की तरफ से कोई बयान नहीं आया है।


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े