अब सुप्रीम कोर्ट के वकील ने किया बड़ा खुलासा, माल्या को भगाने में था मोदी का हाथ, पढ़ें

शेयर करें

बीजेपी ने साल 2014 के लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान पूर्ववर्ती यूपीए सरकार पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए थे। लेकिन आज बीजेपी खुद घोटालेबाजों का साथ देने के मामले में सवालों के घेरे में आ गई है। जिस पर अब मोदी सरकार का कोई भी नेता एक शब्द तक नहीं बोल रहा।

1. विजय माल्या के बयान के बाद बुरे फंसे अरुण जेटली

इस वक़्त देश में सिर्फ एक ही मुद्दा गर्माया हुआ है। दरअसल शराब कारोबारी विजय माल्या द्वारा लंदन की कोर्ट के बाहर वित्त मंत्री अरुण जेटली को लेकर किए गए खुलासे के बाद अब बीजेपी विपक्ष के निशाने पर आ गई है।

2. कांग्रेस नेता ने किया बड़ा खुलासा

इस मामले में कल कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने यह दावा किया है कि उन्होंने संसद के सेंट्रल हॉल में अरुण जेटली और विजय माल्या को एक साथ बात करते हुए देखा था। पीएल पुनिया के दावे के मुताबिक अरुण जेटली और विजय माल्या के बीच कई मिंटो तक बातचीत हुई थी। जिसके बाद ही माल्या देश छोड़कर फरार हुआ।

3. सुप्रीम कोर्ट के वकील ने कहा- SBI जानता था माल्या होने वाला है फरार

विजय माल्या को भगाने में अरुण जेटली का नाम सामने आने के बाद एक के बाद एक खुलासे हो रहे हैं। अब सुप्रीम कोर्ट के एक वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे ने दावा किया है कि विजय माल्या के देश छोड़ कर भागने से 4 दिन पहले ही उन्होंने बैंक को इसकी जानकारी दे दी थी।

4. बैंक ने भी नहीं की कोई कार्रवाई

सुप्रीम कोर्ट के वकील दुष्यंत दवे ने इस मामले में SBI से यह गुहार भी लगाई थी कि वह माल्या को फरार होने से रोक ले। लेकिन बैंक ने इस मामले में कोई गंभीर कदम नहीं उठाए और इसका नतीजा यह हुआ कि विजय माल्या आराम से देश को हजारों करोड रुपए का चूना लगा कर फरार हो गया।

5. वित् मंत्रालय के अंतर्गत आता है एसबीआई

आपको बता दें कि SBI बैंक वित्त मंत्रालय के अंतर्गत आता है और यह देश का प्रतिष्ठित बैंक है। सुप्रीम कोर्ट के वकील द्वारा बैंक को बताए जाने के बावजूद माल्या पर कार्यवाही ना होना यही संकेत देता है कि वित्त मंत्रालय भी माल्या के साथ ही मिला हुआ था।

निष्कर्ष: हाल ही के वक़्त में विजय माल्या से जुड़े जिस तरह के खुलासे हो रहे हैं। उससे साफ़ साबित होता है ये सब बीजेपी की शह पर ही हुआ है।


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े