मंदिर बनाने की बजाय अब अयोध्या में कुरआन शरीफ का पाठ कराएगी बीजेपी और आरएसएस, पढ़ें ख़बर

शेयर करें

लोकसभा चुनाव 2019 में अपनी संभावित हार को देखते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी ने अपना पैंतरा बदल दिया है. कभी घर घर में राम नाम और अयोध्या में सरयू नदी किनारे मंदिर निर्माण का राग अलाप कर सत्ता के शिखर तक पहुंची भाजपा और संघ ने अब 12 जुलाई यानी आज  अयोध्या में सरयू नदी के तट पर पांच लाख बार कुरआन शरीफ का पाठ कराने का निर्णय लिया है.

1. मुस्लिम छवि विरोधी तोड़ने की पहल

दरअसल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अपनी मुस्लिम विरोधी छवि से बाहर निकलना चाह रहा है. इसी के मद्देनजर उसने राष्ट्रीय मुस्लिम मंच का गठन किया. रमजान के महीने में इफ्तार पार्टी आयोजित की और अब अयोध्या में कुरआन शरीफ का पाठ कराने का कार्यक्रम किया जा रहा है.

इसमें मुसलमानों के अलावा कई हिंदू साधु संत भी शिरकत करेंगें. कार्यक्रम में यूपी की योगी सरकार के कई वरिष्ठ मंत्री भी शामिल होंगें.

2. वजू करने के बाद अदा की जाएगी नमाज

आरएसएस का दावा है कि इस कार्यक्रम में लगभग 1200 मुस्लिम नमाजी हिस्सा लेंगें. सबसे पहले सब लोग सरयू नदी के तट पर वजू करेंगें. इसके बाद राम की पैड़ी घाट पर नमाज पढ़ी जाएगी.

करीब पांच लाख बार पवित्र कुरआन शरीफ की पवित्र आयतों का पाठ किया जाएगा. कुरआन खानी का भी कार्यक्रम प्रस्तावित है.

निष्कर्ष : जैसे जैसे चुनाव नजदीक आता जाएगा. रंगे सियार की खाल उतरती जाएगी और सारा नजारा सामने होगा.


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े