बी आर अंबेडकर पर आपत्तिजनक ट्वीट कर फंसे हार्दिक पांड्या, कोर्ट ने जारी किये आदेश

हाल ही में एक ट्वीट कर टीम इंडिया के युवा खिलाड़ी हार्दिक पांड्या की मुश्किले कम होने का नाम ही नही ले रही है.

1. डॉ. बी आर अंबेडकर पर विवादस्पद ट्वीट कर फंसे हार्दिक पांड्या

जी हाँ हाल ही में भारत के संविधान निर्माता डॉ. बी आर अंबेडकर पर किए गए विवादस्पद ट्वीट की वजह से टीम इंडिया के गेंदबाज हार्दिक पांड्या के खिलाफ़ एफआईआर दर्ज करने के आदेश आने का बाद एक बार फिर उनकी मुश्किलें बढ़ गई है.

2. कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने दर्ज की FIR

बता दें कि इस मामले को लेकर बीते दिन जोधपुर की एक अदालत में हार्दिक के खिलाफ एक याचिका दायर की गई थी. जिसे अब स्वीकार करते हुए कोर्ट ने पुलिस को खिलाड़ी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश जारी कर दिए है.

3. जानिए आखिर क्या है मामला?

जानकारी के लिए बता दें कि हार्दिक ने 26 दिसंबर 2017 को अपने ट्विटर अकाउंट से डॉ. बी आर अंबेडकर के खिलाफ ट्वीट किया था.

जिसे आपत्तिजनक बताते हुए जोधपुर के एक वकील ने पांड्या के खिलाफ कोर्ट में मामला दर्ज कराने की कोशिश की थी, लेकिन उस समय पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया था.

4. दलित भावनाओं को ठेस पहुँचाने को लेकर की गई शिकायत

जिसके बाद ही शिकायतकर्ता वकील ने अदालत में इस मामले पर याचिका दायर करते हुए कहा कि..

“पांड्या के ट्वीट से दलित भावनाओं को ठेस पहुंची है.”

इस याचिका के बाद ही अब अदालत ने उनके खिलाफ एससी-एसटी एक्ट की धाराओं के तहत मामला दर्ज करके जांच के आदेश दे दिए हैं.

5. बढ़ते विवाद के बाद दिया था स्पष्टीकरण

दरअसल, बीते साल हार्दिक पांड्या ने डॉ. भीमराव अंबेडकर के खिलाफ अपमानजनक भाषा का प्रयोग किया था. हालांकि बाद में उन्होंने इस मामले में अपना स्पष्टीकरण भी दिया था.

बता दें कि उनके खिलाफ दर्ज FIR को लेकर कोर्ट का एक आदेश आने के बाद उन्होंने अपना बयान सोशल मीडिया पर साझा करते हुए कहा कि..

“उन्होंने कभी संविधान निर्माता के खिलाफ अपमानजनक भाषा का प्रयोग नहीं किया. मैंने ऐसा कोई ट्वीट ही नहीं किया जिसमें संविधान निर्माता अंबेडकर के खिलाफ कुछ गलत कहा गया हो.”

6. मीडिया पर लगाए आरोप

हार्दिक ने सोशल मीडिया पर अपने बयान में ये भी लिखा कि..

“मीडिया उनके बारे में बारे में गुमराह करने वाली खबरें चला रहा है जबकि उन्होंने ऐसा कोई ट्वीट नहीं किया है.

7. टिप्पणी करने वाले अकाउंट को बताया फ़ेक

मीडिया और अपने आरोपों को ग़लत बताते हुए पांड्या ने लिखा..

“मैं सार्वजनिक रूप से अपने वेरिफाइड ट्विटर अकाउंट से ही आधिकारिक संवाद करता हूँ. किसी अन्य अकाउंट से नहीं. जबकि बी. आर. अंबेडकर के खिलाफ किया गया ट्वीट मेरा नाम और फोटो उपयोग कर रहे किसी अन्य अकाउंट से किया गया था.”

8. पांड्या संविधान निर्माता का करते है सम्मान

अकाउंट को फ़ेक बताते हुए आगे पांड्या ने ये भी लिखा कि..

“वह देश के संविधान निर्माता का सम्मान करते हैं और उन्होंने किसी भी समुदाय के लोगों को आहत करने वाली कोई बात नहीं कही है. वह कोर्ट के सामने भी अपनी बात रखेंगे.

निष्कर्ष

सोशल मीडिया पर फ़र्जी खबर चलाकर और किसी हस्ती का नाम इस्तेमाल कर शांतिभंग करने का कार्य पहले भी कई दफ़ा किया जा चूका है.

ऐसे में अब डॉ. भीमराव अंबेडकर के अपमान के संबंध में जोधपुर के एक कोर्ट ने पांड्या के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश तो दे दिए लेकिन उन्होंने ये नहीं गौर किया कि विवादित टिप्पणी @sirhardik3777 अकाउंट से की गई थी जबकि हार्दिक का आधिकारिक अकाउंट @hardikpandya7 है.

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

Leesha Senior Reporter

यह खबर वायरल इन इंडिया के वरिष्ट पत्रकार के द्वारा लिखी गयी है| खबर में कोई त्रुटी होने पर हमें मेल के द्वारा संपर्क करें- [email protected] आप हमें इस फॉर्म से भी संपर्क कर सकते हैं, 2 घंटे में रिप्लाई दिया जायेगा |
Close