यूपी में जंगलराज! हिन्दू युवा वाहिनी के आतंक से बचने के लिए मुस्लिम परिवार को छोड़ना पड़ा गाँव

शेयर करें

जब से केंद्र में बीजेपी की सरकार बनी है। तब से बीजेपी शासित राज्यों में एक धर्म विशेष के लोगों को निशाना बनाया जा रहा है। देश में हिंदूवादी संगठनों की गुंडागर्दी चरम सीमा पर पहुंच चुकी है। जैसे कि बीजेपी ने उनके हाथों में धर्म के नाम पर हिंसा कर दूसरे लोगों को मारने का लाइसेंस दे दिया है। बीजेपी शासित उत्तरप्रदेश में हिंसा और मॉब लिंचिंग के नाम पर मुसलमानों और दलितों को मारने के कई मामले सामने आये हैं।

1. हिन्दू युवा वाहिनी की गुंडागर्दी से परेशान मुस्लिम परिवार

बीते साल उत्तरप्रदेश के बुलंदशहर के सोही गांव में एक मुस्लिम शख्स गुलाम अहमद की हिन्दू संगठन हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओ ने पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। इन कार्यकर्ताओं ने गुलाम अहमद को इसलिए पीटा था क्योंकि उनके पड़ोस में रहने वाला युवक गैर संप्रदाय की लड़की को लेकर भाग गया था।

2. धमकियों के कारण छोड़ा गाँव

अब खबर आ रही है कि हाल में एक स्थानीय कोर्ट ने इस हत्याकांड के पांच आरोपियों को जमानत पर रिहा कर दिया है। इसके साथ इन आरोपियों ने गुलाम अहमद के परिवार को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया है। उनकी धमकियों से परेशान होकर मुस्लिम परिवार के 16 सदस्यों ने गांव छोड़ने का फैसला ले लिया है।

3. केस वापिस लेने का बना रहे दबाब

गुलाम अहमद के पुत्र शकील ने दावा किया है कि जमानत मिलने के बाद जब से आरोपी गांव लौटे हैं। तब से उनके परिवार पर हत्या का मामला वापस लेने के लिए दबाव डाल रहे हैं। हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ता अब गुलाम अहमद की ही तरह परिवार के अन्य सदस्यों को भी मारने की धमकी दे रहे है।

निष्कर्ष: गौरतलब है कि हिन्दू युवा वाहिनी के संस्थापक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं। योगी के राज में हिंदूवादी संगठन पूरी तरह से बेख़ौफ़ हो गए हैं।


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े