बिहार में एनडीए के हुए दो फाड़, नितीश का नेतृत्व मानने से किया इंकार, पढ़ें खबर

बिहार में एनडीए का सिर फुटौव्वल कम होने का नाम हीं नहीं ले रहा है. केंद्र की मोदी सरकार में शामिल राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने अब राज्य के सीएम और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार के खिलाफ हल्ला बोल दिया है.

रालोसपा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष नागमणि ने कहा कि हम किसी भी कीमत पर नीतीश कुमार का नेतृत्व स्वीकार नहीं करेंगें. नीतीश कुमार की औकात हीं क्या है, वह महज डेढ़ फीसदी वोट के मालिक हैं.

1. हमारा ज्यादा जनाधार

 

नागमणि ने कहा है कि हम भाजपा नेतृत्व को बताना चाहते हैं कि बिहार में भाजपा के बाद सर्वाधिक जनाधार रालोसपा है. पूरा कुशवाहा समाज हमारे नेता और केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा के साथ है. बिहार की जनता नीतीश के कुशासन से त्रस्त है. लोग उपेंद्र कुशवाहा को सीएम के तौर पर देखना चाहते हैं.

2. राजद की ओर से मिला ऑफर

नरेंद्र मोदी सरकार में हिस्सेदार रालोसपा के बयान का राजद ने भी समर्थन किया है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि एनडीए में उपेंद्र कुशवाहा जी को सम्मान नहीं दिया जा रहा है. अगर वो हमारे साथ आते हैं तो उनका स्वागत किया जाएगा.

बताते चलें कि बिहार सरकार की शिक्षा व्यवस्था के खिलाफ रालोसपा ने राज्य भर में मानव श्रृंखला का आयोजन किया था, जिसका सहयोगी पार्टी जदयू ने विरोध किया था और विरोधी पार्टी राजद ने समर्थन किया था.

निष्कर्ष : बिहार में एक कहावत है, उपर से फिट फाट, नीचे से मोकामा घाट. यानी कि उपर से जो तस्वीर दिखाने की कोशिश की जा रही है, अंदर में बिल्कुल उल्टा चल रहा है. यही हाल एनडीए का है. जल्द हीं आपस में बिखराव देखने को मिलने वाला है.

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

Close