बीजेपी नेता अरुण शौरी ने उड़ाया भारत के नए उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू का मजाक, विडियो मैं नायडू को बताया अनपढ़

वेंकैया नायडू देश के 11 वे उपराष्ट्रपति है जिन पर हाल ही में वरिष्ठ पत्रकार अरुण शौरी ने ज़ोरदार हमला किया है और वो भी उनकी पढने लिखने की समझ पर | विरोधी नेता अगर नायडू के बारे में कहे की वो एक तीसरी कक्षा की पुस्तक भी नहीं लिख सकते तो भी बात को ताल दिया जाता मगर अरुण शौरी जैसी वरिष्ठ पत्रकार कहे की नायडू के जो लेख इंडियन एक्सप्रेस में छपते है वो उनके द्वारा नहीं लिखे जाते तो मामला वाकई हैरान करने वाला होता है |

वेंकैया नायडू उपराष्‍ट्रपति बनने वाले आरएसएस की पृष्‍ठभूमि के दूसरे नेता हैं| इससे पहले बीजेपी के नेता भैरों सिंह शेखावत (1923-2010) इस पद के लिए 2002 में चुने गए थे | वह देश के 11वें उपराष्‍ट्रपति चुने गए |

पत्रकार होने के साथ साथ अरुण शौरी अर्थशास्त्री भी रह चुके है

अरुण शौरी विश्व बैंक में अर्थशास्त्री थे और भारत के योजना आयोग में सलाहकार भी रह चुके है | वे मीडिया के एक जाने माने चेहरे भी है चूंकि वो पहले इण्डियन एक्सप्रेस एवं टाइम्स ऑफ इण्डिया नामक अंग्रेजी पत्रों के सम्पादक थे |

मोदी के दोस्त अरुण ने कहा “एक पेज नहीं लिख सकते नायडू”

एक पेज नहीं लिख सकते नायडू:  वेंकैया नायडू मेरे दोस्त हैं, हमारे अपने पेपर द इंडियन एक्सप्रेस, में उन्हें एक पृष्ठ का तीन चौथाई भाग मिलता है। कुलदीप जी, कोई भी मुझे उस तरह की जगह नहीं दे सकता है। वेंकैया नायडू का लेख है। वेंकैया नायडू को तीसरे कक्षा की नोटबुक दें और किसी भी मनचाहे विषय पर एक पेज को  भरने के लिए कहें। लेकिन आप उनके लेखों को छापते रहते हैं, जब आप बहुत अच्छी तरह जानते हैं कि वह नहीं लिख सकते।

शौरी ने आरोप लगाया कि ये सरकार ढाई लोग चलाते हैं

उन्होंने कहा कि आपको लगता है कि स्थान को उसे देकर ज्यादा एयरटाइम देकर , आप शांति खरीद रहे हैं नहीं तो नहीं वास्तव में| शौरी ने आरोप लगाया कि ये सरकार ढाई लोग चलाते हैं। शौरी ने कहा कि एक तो बात यहां कोई मिनिस्टर, कोई है ही नहीं। सरकार ढाई आदमियों सरकार हैं। ये बेचारे तो स्वामी अग्निवेश के बंधुवा मजदूर हैं।

अरुण के हिसाब से अनपढ़ है वेंकैया नायडू

एक सर्वे की मुताबिक वेंकैया नायडू की सम्पति लगभग 74 करोड़ो हैं और पिछले कई सालो में उनकी संपत्ति 17% तक बढ़ गयी हैं | उनकी वार्षिक आमदनी 3 करोड़ के आस पास हैं | शौरी कहते है “आप उसके आर्टिकल छपे जा रहे हों, जब तुम्हे पता हैं की वेंकैया नायडू लिख नहीं सकते तो फिर उन्हे स्पेस देने का क्या फ़ायदा|

वेंकैया नायडू को स्पेस देने से ये साबित नहीं होगा की वह पढ़े लिखे हैं ना ही इस देश में शांति आ जाएगी | लेकिन जब तुम्हारे ऊपर कोई बुरी बात आएगी तो तुम्हारी कोई मदद नहीं करेगा|” भारत देश का उपराष्ट्रपति जिस पास एक पत्रकार ने टिप्पड़ी करी की वो एक तीसरी कक्षा की किताब नही लिख वाकई चौकाने वाला तथ्य है क्योंकि इससे पहले स्मृति इरानी पर फर्जी डिग्री लेने का आरोप था l

देखिये वीडियो:-

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट मैं छोड़े

पोपुलर खबरें