शेयर करें

मौजूदा समय में देश के प्रधानमंत्री पद काबिज नरेंद्र मोदी इस समय भाजपा पार्टी के दिग्गज नेता में से एक हैं, जिन्होंने गुजरात के सीएम पद से अपनी राजनीति शुरु की थी और आज वह राजनीति में एक बड़े चेहरे के रुप में मौजूद हैं।

अपनी लग्जरी लाइफस्टाइल को लेकर विवादों में रहने वाले पीएम मोदी  

आपको बता दें कि यूं तो नरेंद्र मोदी हमेशा से ही अपनी लग्जरी लाइफस्टाइल को लेकर विवादों मे आते रहे हैं ऐसा ही एक और मामला पीएम मोदी का सामने आया है जिसके बारे में मोदी ने खुद बताया है। इस खबर को पढ़ने के बाद आप खुद जान जाएंगे कि मोदी वाकई में लग्जरी आदतों के साथ जीते हैं।

हिमाचल प्रदेश के खास मशरुम खाते हैं मोदी

नरेंद्र मोदी जिस समय गुजरात के मुख्‍यमंत्री थे, उस दौरान ही उन्‍होंने कुछ पत्रकारों को ऑन रिकॉर्ड यह बताया था कि उनकी सेहत का राज हिमाचल प्रदेश से आने वाले मशरूम है। जी हां हिमाचल प्रदेश के खास मशरुम, शायद आपको इस बारे में जानकारी कम हो तो यहां जानें इनकी खासित।

हिमालय के पहाड़ों में पाया जाता है यह मशरुम

पीएम मोदी मशरूम की जिस खास प्रजाति का सेवन करते हैं, उसे ‘गुच्‍छी’ कहा जाता हैं और यह हिमालय के पहाड़ों पर ही मुख्य रुप से मौजूद होता है।

केवल प्राकृतिक रुप से ही मिलता है यह किमती मशरुम

इस मशरुम को बाकी चीजों की तरह उगाया नहीं जा सकता इसे केवल प्राकृतिक रूप से ही हासिल किया जा सकता है। यह उत्‍तराखंड, हिमाचल प्रदेश और जम्‍मू-कश्‍मीर के ऊंचे पहाड़ों के जंगलों में पाया जाता है और बर्फ के बढ़ने और पिघलने के बीच के समय में ही यह उगता है।

इस दुर्लभ मशरुम की किमत जानकर हैरान हो जाएंगे आप

अब यह मशरुम इतनी मुश्किल से पाया जाता है तो जाहिर है कि इसकी किमत भी उसी तरह से होगी। आपको बता दें कि यह किमती मशरुम काफी महंगा होता है और कभी-कभी यह 30,000 रुपये किलो तक भी पहुंच जाता है। हालांकि एक किलो में काफी मशरूम आ जाता है, क्‍योंकि यह सूखने के बाद बेचा जाता है।

हिमाचल में रहने के दौरान मोदी ने अपनाया यह मशरुम

आपको बता दें कि पीएम मोदी ने काफी सालों तक पार्टी कार्यकर्ता के रूप में हिमाचल में रहें हैं और इस दौरान इन ऊंचे पहाड़ों पर उनकी कई जान पहचान के लोग हैं। जिस समय उन्‍हें यह मशरूम पसंद आ गया।

मुश्किल से पाए जाने वाले मशरुम है काफी सेहतमंद

आपको बता दें कि इतना महंगा और किमती मशरुम होने के साथ ही यह काफी सेहतमंद भी है। इसमें बी कॉम्प्लैक्ट विटामिन, विटामिन डी और कुछ जरूरी एमीने एसिड पाए जाते हैं। इसे लगातार खाने से दिल का दौरा पड़ने की संभावना भी कम हो जाती हैं। इसकी मांग सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि यूरोप, अमेरिका, फ्रांस, इटली और स्विटरलैंड जैसे देशों में भी काफी है।

खुद को समाजसेवक बताने वाले मोदी और 15 हजार रुपये किलो के मशरुम

लेकिन इन सब में एक गौर करने वाली बात आती है कि पीएम जो खुद को जनता का सेवक बताते हैं, उनके लिए काम करने का दावा करते है, वह हमेशा जिंदगी में ऐसा कुछ अनुभव करते हुए नजर नहीं आत हैं।  गरीबी में जीने का दावा करने वाले मोदी के इन बातों से ही इस बात का साफ पता चलता है।

Story Source : https://aajtak.intoday.in/gallery/narendra-modi-mushroom-himachal-gucchi-benefits-price-ttre-6-17099.html

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें