गियासुद्दीन मंसूरी को जिस काम के लिए गोल्ड मैडल मिला उसने दुनिया में जिले का नाम किया रोशन

दुनिया में ऐसा कोई काम नहीं जिसे आप पूरे मन से करने की ठान ले और अपना 100 प्रतिशत उस काम के लिए दें और वो काम पूरा न हो ! ऐसी ही कुछ मिसाल पेश की है आबूरोड के रहने वाले गियासुद्दीन मंसूरी ने !

अपने गृहनगर से ही पढाई करते हुए गियासुद्दीन ने बेचलर ऑफ़ टेक्नोलॉजी इन केमिकल इंजीनियरिंग में पूरे जिले में पहला स्थान हासिल करके गोल्ड मैडल जीता है और एक बड़ी सफलता हासिल की है जिसको लेकर उनके पूरे शहर ने उनका स्वागत किया !

गियासुद्दीन के बारे में कुछ जरूरी बातें

गियासुद्दीन के पिता का नाम सिराजुद्दीन मंसूरी है ! गियासुद्दीन ने 2016 के बेच से इंजीनियरिंग करके गोल्ड मैडल हासिल किया है ! जयपुर की जेके लक्ष्मीपति यूनिवर्सिटी में समारोह के दौरान गियासुद्दीन की इस अपार सफलता के लिए उनका सम्मान किया गया!

इस समारोह में यूनिवर्सिटी के कुलपति सहित पदमभूषण डॉ डीआर मेहता, वाइस चांसलर आदि मौजूद रहे और उन्होंने गियासुद्दीन को मेकेनिकल इंजीनियरिंग के 2016 के बेच का बेस्ट स्टूडेंट घोषित करते हुए उन्हें डिग्री के साथ साथ सम्मान भी दिया ! यहाँ इस समारोह में गियासुद्दीन के माता पिता भी मौजूद है जो अपने बेटे की सफलता के साक्षी बने और गर्व महसूस किया!

क्या कहा गियासुद्दीन ने इस बारे में

मीडिया में अपने वक्तव्य के दौरान गियासुद्दीन ने कहा कि वो बचपन से ही इंजीनियर बनना चाहते थे और ये हमेशा से उनका पैसन रहा है !

गियासुद्दीन बताते हैं कि शुरुवाती शिक्षा उन्होने यहीं आबूरोड के सेंत जोन्स स्कूल से ली और उसके बाद जयपुर की यूनिवर्सिटी में दाखिला ले लिया ! उनकी  मेहनत थी ही ऐसी कि वो गोल्ड मैडल तक का सफर आसानी से तय कर गये !

इस सम्मान को हासिल करते हुए जो ख़ुशी उनकी आखों में थी उससे कहीं ज्यादा ख़ुशी उनके माँ बाप की नम आँखों में देखने को मिली ! उनके माँ बाप ने ऊपर वाले का शुक्रिया किया और अपने बच्चे को मुबारकबाद दी !

गियासुद्दीन कहते हैं कि जब वो बचपन में  शरारत करते थे तो उनके माँ बाप ने एक ही चीज सिखाई कि लक्ष्य की ओर केन्द्रित रहो और उसने वही किया !! फिर क्या उसकी सफलता के हम सब साक्षी बने !

source-http://www.abutimes.com/giyasuddin-mansuri-won-gold-medal/

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट मैं छोड़े

पोपुलर खबरें