भारत के इस शहर मैं देखने को मिलती है हिन्दू मुस्लिम एकता की सबसे बड़ी मिसाल…

राजनीती के नाम पर एक ही माँ के 2 बेटों को एक दुसरे का दुश्मन बना दिया है इस सियासत ने ! दुःख की बात तो ये है कि वो ऐसा करने में सफल भी हुए है !

जहाँ आज से तकरीबन 20 साल पहले तक मुस्लिम और हिन्दू का भेद नहीं था और वो बहुत प्यार से आपस में रहते थे लेकिन भाजपा ने जो अयोध्या में किया उसने देश की तस्वीर ही बदल दी ! ऐसे में भी देश में कई जगह ऐसी मिसाल मिलती एकता कि मन भर आता है ! उसी में एक जगह का किस्सा हम आपको सुनाते हैं !

कहाँ और क्या मिसाल है एकता की

हम बात कर रहे हैं हापुड़ जिले के देहरा गाँव की ! यहाँ पर हिन्दू-मुस्लिम एकता की और सांप्रदायिक सौहार्द की जो तस्वीर देखने को मिलती है वो आपको हैरान कर देगी ! जहाँ देश में मंदिर और मस्जिद के नाम पर खून बहाया जा रहा वहीँ इस गाँव भी शंख भी अजान के साथ बजता है !

इस गाँव में एक मोहल्ला है मिरचियान और वहां पर मंदिर और मस्जिद एक ही नीव पर बने है ! ऐसा होने के कारण वहां पर आरती और अजान कई दशकों से एक साथ ही होती है और बड़े ही प्यार और भक्ति भाव से होती है !

बात होती है सुलझाव और इसलिए ही यहाँ ये भाईचारा बनाये रखने के लिए आरती के वक़्त मस्जिद वाले लाउडस्पीकर बंद कर देते हैं और नमाज़ के वक़्त मंदिर वाले !

मौलवी और पुजारी भी यारों की तरह रहते हैं

यहाँ सिर्फ लोग ही नहीं धर्मगुरु भी अर्थात यहाँ के मदिर के जो पुजारी श्याम दास है वो और मस्जिद के मौलवी शौक़ीन अली दोनों को अक्सर एक साथ ही देखा जाता है ! आपस में वो भाइयो की तरह रहते हैं और एकदूसरे के सुख दुःख से वास्ता रखते हैं !

यहाँ एक बात और गौर करने लायक है कि जो लोग कहते हैं मुस्लिम जहाँ ज्यादा हो वहां उत्पाद करने लगते हैं तो इस गाँव में मुस्लिमों की आवादी 95 प्रतिशत है उसके बाद भी ऐसा माहौल है !
गाँव के लोग कहते हैं कि भले ही मुजफ्फरनगर में सांप्रदायिक दंगा हो या कुछ भी हो पर इस गाँव में कभी भी उसको लेकर कोई विवाद नहीं हुआ ! यहाँ सब लोग आपस में एक दुसरे के सुख दुःख बांटते हुए रह रहे हैं !

देखिये वीडियो:-

source-https://hindi.news18.com/news/uttar-pradesh/ghaziabad-a-unique-example-of-hindu-muslim-unity-namaz-and-aarti-happen-together-1120773.html

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट मैं छोड़े

पोपुलर खबरें