शेयर करें

देश के वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेई ने हाल ही में ABP न्यूज़ से इस्तीफा दिया है। जिसके बाद वह लगातार केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार पर हमलावर हो रहे हैं।

इस्तीफा देने के बाद पुण्य प्रसून बाजपेई ने सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखकर मोदी सरकार पर कटाक्ष किया है।

1. गोदी मीडिया में ऐड का कंट्रोल बीजेपी के हाथ में

गौरतलब है कि मोदी सरकार द्वारा उन आरोपों को बेबुनियाद बताया जा रहा है। जिनमें कहा गया है कि ABP न्यूज़ चैनल के दो पत्रकारों की नौकरी उनके द्वारा बनाए जा रहे दबाव के चलते गई है।

केंद्रीय सूचना मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने हाल ही में यह बयान जारी किया है कि चैनल के मैनेजिंग एडिटर मिलिंद खांडेकर और एंकर पुण्य प्रसून बाजपेई को लगातार गिर रही टीआरपी के कारण नौकरी छोड़नी पड़ी है।

2. फेसबुक पोस्ट में पुण्य प्रसून बाजपेयी ने बीजेपी पर लगाए गंभीर आरोप

सच्चाई हम सब जानते हैं कि पुण्य प्रसून वाजपेई को मोदी सरकार की झूठी पोलें खोलने का नतीजा मिला है।

पुण्य प्रसून बाजपेई ने फेसबुक पर एक लंबी पोस्ट लिखी है। जिसमें उन्होंने मोदी सरकार और पतंजलि की पोल खोली है। उनका कहना है कि विज्ञापन की मदद से बीजेपी ने मीडिया जगत पर पूरा कंट्रोल बना लिया है।

3. मोदी सरकार के इशारों पर काम करती है पतंजलि

गौरतलब है कि गोदी मीडिया में बाबा रामदेव का ऐड पूरा दिन ही चलता रहता है। लेकिन मोदी सरकार जब भी चाहती है इसे रुकवा देती है और जब चाहती है इसे चलवा देती है।

पुण्य प्रसून बाजपेई ने देश के जाने-माने बिजनेसमैन बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि पर आरोप लगाते हुए कहा है कि वह मोदी सरकार के इशारों पर ही काम कर रही है। पतंजलि का ऐड उसे ही मिलता है जिसे मोदी सरकार देना चाहती है।

4. इस्तीफा देते ही चैनल पर लौटा पतंजलि का ऐड

पुण्य प्रसून वाजपेई का कहना है कि जैसे ही उन्होंने चैनल से इस्तीफा दिया वैसे ही सैटेलाइट पर चैनल के सिग्नल भी सही से आने लग गए।

वहीं चैनल पर बाबा रामदेव की पतंजलि का विज्ञापन भी लौट आया है। इसके साथ मास्टर स्ट्रोक में जो ऐड पहले 3 मिनट का दिखाया जाता है, अब वह बढ़कर 20 मिनट का वक्त ले रहा है।

निष्कर्ष:

गौरलतब है कि बीजेपी के इशारों पर काम कर रहे गोदी मीडिया में सरकार और कॉर्पोरेट्स का इतना पैसा लगा हुआ है कि अब मीडिया अपनी साख खो बैठा है।

Story Source: http://www.boltaup.com/punya-prasun-removed-from-abp-due-to-patanjali/

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें