वर्ल्ड इकनोमिक फोरम ने भारतीय मीडिया पे जो कहा वो आपका दिल खुश कर देगा आज - वायरल इन इंडिया - Viral in India - NEWS, POLITICS, NARENDRA MODI

वर्ल्ड इकनोमिक फोरम ने भारतीय मीडिया पे जो कहा वो आपका दिल खुश कर देगा आज

‘लोगो का मीडिया पर से भरोसा उठ चुका है’ ऐसा हम नही बल्कि बल्कि वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम का ट्विटर अकाउंट कह रहा है | यह एक सर्वे था जिसे एडेलमन कंपनी द्वारा 28 देशो में किया गया और 17 देशो ने मीडिया पे अविश्वास जताया | उन 17 देशो में भारतीय मीडिया का भी बोल बाला था जसके बारे में कहा गया की मीडिया अब भ्रष्ट हो चूका है |

सर्वे में जारी की गयी रिपोर्ट के बारे में बताया गया की भारतीय मीडिया अपनी विश्वसनीयता पूरी तरह खो चूका है | सोशल मीडिया के उभरते ही मीडिया फेक न्यूज़ और लोगो को गुमराह करने का काम ज्यादा करने लगा है |

‘जो खुद को कहते है पत्रकार वो होते है राजनीतिक दलों के दलाल’

दरसल जिस कंपनी ने यह सर्वे किया है वो मीडिया बिज़नस के क्षेत्र में 20 साल से ज्यादा सक्रीय है और 38 देशो में अपना बिज़नस कर रही है | सर्वे में बताया गया की कैसे सोशल मीडिया के आते ही मीडिया का पाखंड और उजागर हुआ है | ‘ऐसे लोग जो खुद को पत्रकार बताते है असल में वो अपने मुनाफे के लिए राजनीतिक दलों के पीआर एजेंट होते है’|

सर्वे में बताया गया की विभिन्न देशो के लोगो ने मीडिया पर अपना असंतोष ज़ाहिर किया है | इसके अलावा यह भी कहा गया है की मीडिया के दिए खबरों पर अब लोग भरोसा नही करते | इन देशो में भारत देश भी मुख्यतौर पर शामिल है | लोगो का कहना है की मीडिया निहित स्वार्थो और अपनी टीआरपी जुटाने के लिए अफवाहे फैलाती है |

अपनी रिपोर्ट में रिचर्ड एडलमैन (Richard Edelman) ने कहा है कि आजकल लोग मीडिया को कॉरपोरेट मशीन और कुछ खास वर्ग के लोगों तक सीमित ही समझते हैं। उनका कहना है कि कभी लोगों के विचारों और मजलूमों की आवाज बना मीडिया आज अमीर और प्रभाशाली लोगों से प्रभावित है और इससे लोगों का मीडिया के प्रति भरोसा कम हुआ है।

रिपोर्ट में जेएनयू वाले मामले का भी ज़िक्र

सर्वे की रिपोर्ट में जेएनयू वाले मामले का ज़िक्र करते हुए कहा गया की ‘इस बात के पुख्ता सबूत है की देश में में फर्जी खबरें (fake stories) फैलाने के लिए मीडिया और दिल्ली के लुटियंस लब में रहने वाले कुछ लोग जिम्मेदार हैं।

सर्वे में यह भी कहा गया की न्यूज़ चैनल एक तरह से गॉसिप बॉक्स में तब्दील हो चुके है जो अहम खबरों को न दिखाते हुए मनोरंजन में घुसे रहते है | और जब रात को लोग टीवी के आगे बैठते है तो बेकार का शोर ज़रूर सुनाई देता है जिसमे अहम मुद्दा कही खो जाता है|

देखिये वीडियो:-

http://samachar4media.com/indian-media-is-most-corrupt-with-no-ethics-and-responsibility-world-economic-forum-survey

Close