शेयर करें
  • 14.4K
    Shares

देश में भड़काउ और बिकाउ पत्रकारिता का प्रतीक बन चुका है जी न्यूज. एकतरफा खबरें दिखाने के लिए बदनाम जी न्यूज की टीआरपी जहां लगातार गिरते गिरते दम तोड़ने की स्थिति में पहुंच चुकी है तो वहीं एक बार फिर ये चैनल फर्जी न्यूज के आरोपों में फंस गया है.

अगर निष्पक्षतापूर्ण तरीके से कार्रवाई हुई तो जी न्यूज का बंद होना तय माना जा रहा है. वैसे जी न्यूज कभी भी देश के किसानों, नौजवानों, मजदूरों और बेरोजगारों की चिंता पर बात नहीं करता बल्कि दिन रात हिंदू, मुस्लिम, मंदिर मस्जिद, गाय गोबर, श्मशान कब्रिस्तान पर ही खबरें प्लांट करता है और नफरत को बढ़ावा देता है.

वैज्ञानिक को बता दिया देशद्रोही

भाजपा और आरएसएस के दलाल के तौर पर जाने जाने वाले जी न्यूज की दुकान दूसरे पर देशद्रोह पर चलती है. इस बार तो चैनल ने हद करके रख दी. देश के मशहूर वैज्ञानिक और शायर गौहर रजा को जी न्यूज ने देशद्रोही घोषित कर दिया. दरअसल गौहर रजा ने शंकर शाद मुशायरे में हिस्सा लिया था जिसके बाद जी न्यूज ने उन पर देशद्रोहियों का समर्थन करने का आरोप जड़ दिया.

गौहर रजा ने की थी शिकायत

 

आपको बता दें कि मशहूर शायर गौहर रजा ने शंकर शाद मुशायरे के दौरान एक नज्म पेश की थी जो सीधे सीधे सरकार पर हमला करने वाली थी. सरकार का विरोध जी न्यूज को बुरा लग गया और उसने खबर प्लांट की, अफजल प्रेमी गैंग का मुशायरा. इसी टायटल से खबर चलाई गई. गौहर रजा ने को इसमें अफजल गुरु का समर्थक बताया गया. गौहर रजा ने इसकी शिकायत नेशनल ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड अथॉरिटी से कर दी.

मांगनी होगी माफी और भरना होगा जुर्माना

 

गौहर राजा की शिकायत सही पाई गई. अथॉरिटी के चेयरमैन जस्टिस आर वी रवींद्रन ने जी न्यूज पर 01 लाख रुपये का जुर्माना और रात नौ बजे प्राइम टाइम के दौरान गौहर से सार्वजनिक माफी मांगने का निर्देश दिया. अब जी न्यूज को दिन भर अपने स्क्रीन पर माफीनामा चलाना होगा. जी न्यूज ने अथॉरिटी के समक्ष पुनर्विचार याचिका भी दायर की लेकिन अथॉरिटी ने इसे ठुकरा दिया और जी न्यूज पर सजा बरकरार रखी.


शेयर करें
  • 14.4K
    Shares