दो लोग आतंकवादियों को पैसा देने के मामले में गिरफ़्तार, दोनो का पूरा नाम जान लो एक बार

शेयर करें

हमेशा देश से गद्दारी करने के मामले में अक्सर मुसलमानों पर ही सन्देश किया जाता रहा है. फिर चाहे कश्मीर में हुर्रियत नेताओं को राज्य में अशांति के लिए फंडिंग करना हो या फिर भारत के खिलाफ़ आए दिन जहर उगलने वाले लश्कर को फंडिंग करने का मामला हो.

NIA ने मुजफ्फरनगर से दो आतंकियों को किया गिरफ़्तार

लेकिन अब हाल ही में जब राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी NIA ने यूपी के मुजफ्फरनगर से लश्कर को फंडिंग कराने के मामले में किसी मुस्लिम को नहीं बल्कि दो हिन्दू संदिग्धों को गिरफ्तार किया तो मानो ये बात साबित हो गई कि देश से गद्दारी करने वाला केवल गद्दार होता है उसका कोई मजहब नहीं होता.

अंकित गर्ग और अदिश कुमार जैन नाम के दो आतंकियों की हुई गिरफ़्तारी

दरअसल, NIA की एक विशेष टीम ने लश्‍कर ए तैयबा की मदद पहुँचने वाले दिनेश गर्ग उर्फ अंकित गर्ग और अदिश कुमार जैन नाम के दो लोगों को मुजफ्फरनगर से गिरफ्तार किया है. बता दें कि इन दोनों पर ही सऊदी अरब में भारतीय सोने के तस्‍कर से जुड़े होने के आरोप हैं. इस मामले में अभी तक NIA द्वारा करीब सात लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है.

 सऊदी अरब से हवाला के जरिए लश्कर तक पहुंचा रहे थे पैसे

मीडिया खबर की माने तो, सभी आरोपियों की फोन डिटेल्स निकालने के बाद से ही उन पर नजर रखी जा रही थी. क्योंकि फोन डिटेल्स में ये साफ़ हुआ था कि दोनो आरोपी सऊदी अरब से हवाला के जरिए कई सालों से लश्‍कर तक पैसा पहुंचाकर देश से गद्दारी कर रहे थे. दोनों लोगों पर आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा के लिए काम करने का आरोप है.

खुफिया जानकारी के बाद दोनों थे NIA के रेडार पर 

सूत्रों के अनुसार, NIA को खुफिया जानकारी मिली थी कि मुजफ्फरनगर से कुछ लोग हवाला के जरिए लश्‍कर ए तैयबा की मदद कर रहे हैं, जिसके बाद से ही दोनों NIA के रेडार पर थे. और इसी के चलते अब टीम ने मुजफ्फरनगर से 34 वर्षीय दिनेश गर्ग और 54 वर्षीय आदिश कुमार जैन को गिरफ्तार किया है.

आतंकी गतिविधयों में भी थे सक्रिय

NIA की टीम ने जब गिरफ्तार दोनों लोगों के फोन और लैपटॉप खंगाले तो दोनों के सऊदी अरब से हवाला के जरिए लश्‍कर तक पैसा पहुंचाने की बात सामने आई.

गरफ्तारी के बाद दोनों आतंकियों ने कुबूला कि वो “जुलाई 2017 में लश्करे तैयबा के लिए काम करते हुए कई आतंकी गतिविधयों में सक्रिय भागीदार रहे हैं.”


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े