ख़त्म हुई इंतज़ार की घडी, अब इस चैनल पे नज़र आएंगे दो बड़े पत्रकार

शेयर करें

एबीपी न्यूज जो पिछले कुछ दिनों से गोदी मीडिया की कतार में खड़ा हो गया है. पिछले दिनों भाजपा और आरएसएस के दबाव में सरकार पर सवाल उठाने वाले कई वरिष्ठ पत्रकारों की छुट्टी कर दी थी, उन्हीं में से एक बड़ा नाम था मिलिंद खांडेकर का.

1. सरकारी दबाव में आने से इंकार

मिलिंद खांडेकर एबीपी न्यूज के पूर्व मैनेजिंग एडिटर के पद पर कार्यरत थें. वह पिछले 14 सालों से एबीपी न्यूज के साथ जुड़े हुए थें. पिछले अगस्त में हुए घटनाक्रम के बाद मिलिंद ने एबीपी न्यूज से खुद को अलग कर लिया था. उसी दौर में अभिसार शर्मा को भी सरकारी दबाव में लंबी छुट्टी पर भेज दिया गया था.

2. किया बीबीसी ज्वाइन

मिलिंद को एबीपी न्यूज से बड़ा बैनर मिल गया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए जानकारी दी कि मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि मैं बीबीसी के साथ डिजिटल एडिटर ऑफ इंडिया के साथ जुड़ रहा हूं. आपके समर्थन के लिए धन्यवाद.

3. आलोचनात्मक कवरेज के कारण हुई थी छुट्टी

मिलिंद खांडेकर के इस्तीफे के दौरान यह खबर तेजी से चली थी कि उनकी छुट्टी प्राइम टाइम शो में छत्तीसगढ़ से जुड़ी सरकार की आलोचनात्मक खबर दिखाने की वजह से हुई थी.

निष्कर्ष :

काबिल इंसान के लिए बैनर मायने नहीं रखता, एक जाता है तो दूसरा आता है.


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े