एबीपी न्यूज को लग सकता है बड़ा झटका, नेहा पंत चैनल छोड़ने के मूड में

शेयर करें

लगता है एबीपी न्यूज़ का बुरा वक़्त शुरू होने वाला है। पुण्य प्रसून वाजपेयी और अभिसार शर्मा के बाद अब मशहूर महिला एंकर नेहा पंत के भी चैनल छोड़ने की अटकलें लगाई जाने लगी है। नेहा की पहचान देश की निष्पक्ष पत्रकारों में होती है। अपने दशकों के करियर में नेहा ने अपने ऊपर किसी भी राजनीतिक दल या राजनेता के पक्ष में पत्रकारिता करने का आरोप लगने नहीं दिया।

1. निष्पक्षता नेहा की पूंजी

देश की जिन महिला पत्रकारों के नाम प्रमुखता से लिए जाते हैं, उनमें श्वेता सिंह, अंजना ओम कश्यप, चित्रा त्रिपाठी आदि प्रमुख हैं। समय समय पर इन लोगों पर दल विशेष के पक्ष में रिपोर्टिंग करने का आरोप लगता रहा है लेकिन नेहा पंत से अपने करियर के आरम्भ से अब तक निष्पक्ष एवं निर्भीक पत्रकारिता की कठिन डगर पर चल कर दिखाया है।

2. एबीपी न्यूज़ से अलग होने की वजह

पिछले कुछ दिनों के घटनाक्रम पर निगाह डालें तो स्पष्ट पाएंगे कि एबीपी भी अन्य चैनल्स की तरह गोदी मीडिया की श्रृंखला में शामिल होने को व्यग्र है। एबीपी प्रबंधन को यह लगने लगा है कि सरकार से जनहित से जुड़े मुद्दों पर सवाल पूछने की बजाय चाटूकारिता में ज़्यादा फायदा है। आपने भी गौर किया होगा कि अभिसार और पुण्य प्रसून के अलग होने के बाद से ये चैनल लगातार मोदी और शाह के रंग में रंग चुका है।

3. बेजा दबाव बनाने की कोशिश

नेहा पंत एक प्रोफेशनल पत्रकार ज़रूर हैं लेकिन वो कम्पनी से नहीं बल्कि काम से प्यार करने की भावना में यकीन रखती हैं। नेहा अपनी निष्पक्ष पत्रकारिता के इमेज से कोई छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं कर सकती। वह धारा के विपरीत चल कर अपना अलग मुकाम हासिल करने की चाहत रखती हैं। संभव है कि उन्हें पत्रकारिता धर्म के विपरीत अनुचित खबरें दिखाने के लिए दबाव बनाया जाता हो, जिस वजह से वो नाराज़ चल रही हैं।

4. कैसी है नेहा की पर्सनल लाइफ

नेहा पंत मूल रूप से उत्तराखण्ड की हैं। 28 वर्षीय नेहा की शादी वोडाफोन के बड़े अधिकारी गौरव पंत से हुई है। नेहा ने पत्रकारिता की पढ़ाई दिल्ली यूनिवर्सिटी के कमला नेहरू कॉलेज से पूरी की है। 03 साल तक लोकसभा चैनल में अपनी सेवा देने के बाद नेहा ने 2012 में एबीपी न्यूज का दामन थामा जो आज तक बदस्तूर जारी है।

निष्कर्ष :

आज भारत की मीडिया और लोकतंत्र जिस संकट के दौर से गुजर रहा है, ऐसे में नेहा पंत जैसी युवा पत्रकारों का साहस काबिल ए तारीफ है।


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े