शेयर करें

पत्रकारिता का काम होता है- जनता के बीच सच्चाई लाना। जनता मीडिया के जरिये देश विदेश की खबरों तक पहुंच पाते हैं। मीडिया हमेशा सत्तापक्ष सरकार की अच्छे कामों के साथ नकामयाबियों के बारे में भी बताती है। लेकिन इस वक़्त देश का मीडिया गुलामी की बेड़ियों में जकड़ गया है। नोटों के मोटे बंडलों के भार के नीचे दब कर आज के मीडिया चैनल दिन रात सिर्फ मोदी राग अलापते रहते हैं। वहीँ देश के निष्पक्ष पत्रकारों की आवाज़ को दबाया जा रहा है।

1. मीडिया को कंट्रोल करने में लगी मोदी सरकार

इस वक़्त देश के चुनिंदा मीडिया हाउस ही अपना कर्तव्य पूरी निष्ठां से निभा रहे हैं। बाकी मीडिया तो सिर्फ इस वक़्त फर्जी खबरें चलाने में पीएचडी कर रहे हैं। अपने चैनलों में झूठी खबरों को शान से दिखा रहे हैं। क्योंकि उनका सारा कंट्रोल मोदी सरकार और आरएसएस द्वारा चलाया जा रहा है। लेकिन बीजेपी की पोल खोलने वाले इन चुनिंदा पत्रकार ही मोदी सरकार की नींद उड़ाने के लिए काफी है।

2. मोदी विरोधी रिपोर्टिंग करने पर गई पत्रकारों की नौकरी

हाल ही में एबीपी न्यूज़ के अंदरखाने मचे घमासान की बलि कुछ ईमानदार पत्रकारों की चढ़ना पड़ा है। क्योंकि इन्होने मोदी सरकार के सामने अपना सर नहीं झुकाया। इस पत्रकारों के नाम है पुण्य प्रसून बाजपेयी, मिलिंद खांडेकर, वहीँ अभिसार शर्मा की नौकरी पर भी तलवार लटक रही है।

3. बीजेपी से कभी नहीं डरे अभय कुमार दुबे

हम बात कर रहे हैं उस पत्रकार के बारे में, जो इस वक़्त मीडिया जगत से दूरी बनाये हुए हैं। लेकिन इन्होने एक वक़्त पर मोदी सरकार के खूब पसीने छुड़ाए हैं। अभय कुमार दुबे ने हमेशा बीजेपी की दोगली नीतियों की सच्चाई जनता के बीच लाई है। जिसके चलते उन्होंने अक्सर भक्तों द्वारा गालियां दी गई है। इसके साथ सोशल मीडिया पर भी भगवा ब्रिगेड द्वारा उन्हें काफी ट्रोल किया जाता रहा है।

4. आजकल डिबेट शो में करते हैं बीजेपी का पर्दाफाश

अभय कुमार दुबे पत्रकार होने के साथ एक लेखक भी हैं। विकासशील समाज अध्ययन पीठ (सीएसडीएस) के मेंबर हैं। उन्होंने अबतक कई किताबे लिखी हैं। वह न्यूज़ चैनलों पर होने वाली डिबेट शो में अक्सर सोशल मुद्दे उठाते नज़र आते हैं। हाल ही में उन्होंने बताया था कि वह जब भी डिबेट शो मोदी सरकार की जन विरोधी नीतियों का दोगला सच जनता के बीच लाते हैं। उन्हें सोशल मीडिया पर भक्तों द्वारा विरोध का सामना करना पड़ता है।

निष्कर्ष: गौरतलब है कि अपने आका यानि की पीएम मोदी का सच सुनते ही मोदीभक्त भड़क पड़ते हैं। क्योंकि उनकी आँखों पर धर्म के नाम की पट्टी बाँध दी गई है।

 

 

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें