पेट में जलन और खट्टी डकार की है शिकायत तो हो जाएं सावधान, नए प्रकार का कैंसर फ़ैल रहा है

शेयर करें

आज के टाइम पर कोई छोटी मोटी बीमारी कब गंभीर समस्या बन जाए इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता है। आजकल ऐसी ऐसी खतरनाक बीमारियां आम हो गई हैं कि आगे चलकर यह जानलेवा साबित हो जाती है।

छोटे से शुरु होकर जान लेने वाली ऐसी ही घातक बीमारी कैंसर

पेट में जलन और खट्टी डकार की शिकायत अक्सर लोगों को रहती है और आप इसे काफी आमततौर पर लेते हैं। लेकिन, यह समस्‍या अगर लगातार रुप से होने लगे व साथ ही इसके कुछ लक्षण नजर आएं तो आपको ग्रासनली का कैंसर भी हो सकता है।

एसोफेगल कैंसर, एसोफेगस में कोशिकाओं का आकार अचानक से बढ़ने लगता है। एसोफेगस गले से आपके पेट तक खाना और पानी लेकर जाती है।

एसोफेगस जहां पर पेट से जुड़ी होती है वहां इसकी परत एक अलग तरह की कोशिकीय बनावट की होती है, जिसमें कई तरह के केमिकल्स निकलने वाली अनेक ग्रंथियां और संरचनाएं बनी होती हैं।

अगर एसोफेगस का कैंसर इस कहीं हिस्से से शुरू होता है जहां पर ट्यूब पेट से मिलता है, तो इस कैंसर को स्क्‍वामस सेल कार्सिनोमा कहा जाता हैं।

अगर यह एसोफेगस के ग्रंथियों वाले हिस्से से शुरू हो रहा है तो इसे एडेनोकार्सिनोमा (ग्रंथियों की बनावट वाले हिस्सें का कैंसर) कहते हैं।

जान लें घातक एसोफैगल कैंसर के लक्षण

शरीर के इस हिस्से में अगर कैंसर हो जाए तो निगलने में कठिनाई या सिर्फ कुछ सॉलिड खाने में परेशानी होती है।(इसेडायसफैगिया या ओडाइनोफैगिया भी कहते हैं)।

अक्सर मरीज सीने के बीच में, सीने की हड्डी के बिल्कुल नीचे ‘चिपकने’ की शिकायत महसूस होती है।

सीने में या कंधों की पसलियों के बीच अक्सर दर्द रहता है।

दिल में जलन रहती है या फिर खट्टी डकारें आती रहती है।

वजन काफी अचनाक से कम हो जाता है।

आवाज फटना या लम्बे समय तक खांसी की शिकायत रहना ।

लगातार उल्टियां आते रहना।

इन लक्षणों के अन्य कारण भी हो सकते हैं। अगर इनमें से कोई परेशानी आपके साथ है तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाने की जरुरत है। अगर आपके सीने में दर्द या खून की उल्टी हो रही है तो फैरन आप मेडिकल हेल्प लें।

एसोफैगल कैंसर के कारण

जिन लोगों की उम्र 50 से ज्यादा होती है उनमें एसोफैगल कैंसर पाये जाने की संभावना सबसे ज्यादा होती है। इसलिए इस उम्र के लोगों को इस तरह के लक्षणों पर खास ध्यान देना चाहिए। साथ ही किसी भी तरह की आशंका हो, उन्‍हें डॉक्‍टर से मिलना चाहिए।

पुरुषों को एसोफैगल कैंसर होने का खतरा महिलाअों की तुलना में ज्यादा होता है। ऐसा कहा जाता है कि महिलाओं की तुलना में पुरूषों में इस रोग का खतरा तीन गुना ज्यादा होता है।

हालांकि अफ्रीकी-अमेरिकी लोगों की तुलना में काकेशियन लोगों में लोअर एसोफेगस के एडेनोकार्सिनोमा के मामले ज्यादा केस पाए जाते हैं।

शराब ज्यादा पीना, तम्बाकू खाने से इसका खतरा और बढ़ जाता है। यह भी स्क्‍वामस सेल एसोफेगल कैंसर के कारण बनते हैं।

आपको ऐसा भोजन खाने की जरुरत है जिसमें फलो, सब्जियों और कुछ विटामिन्‍स के साथ खनिजों की मात्रा कम हो उससे एसोफेगल कैंसर का खतरा ज्यादा हो जाता है।

डॉक्‍टर से कब संपर्क करें

एसोफेगल कैंसर का कोई भी लक्षण दिखने पर जैसे निगलने में परेशानी, वजन कम हो रहा हो या लगातार उल्टियां आ रही हो तो अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें।

अगर आपको सीने में दर्द या खून की उल्टी हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से चेकअप करें। यदि आपको अहसास होता है, कि खाना निगलने पर अंदर नली में चिपकता है तो अपने फिजीशियन को दिखाएं।


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े