नहीं सुधर रहा बाबा रामदेव, मुसलमानों को लेकर दिया ये बहुत ही नीचता भरा बयान

शेयर करें

आज जिस समाज में हम रह रहे हैं वहां धर्म एक सबसे बड़ा मुद्दा बन गया है। बात करें हमारे भारत देश की तो यह अपने आप में ही कई धर्मों को समेटे हुए है। जो किसी समय में भारत की एक ताकत हुआ करती थी वही आज हिंसा, सम्प्रदायिक दंगो की वजह बन कर गई है।

धर्मों की अपने हिसाब से संज्ञा देने वाले धर्म गुरु

समाज में अपने आपको धर्म को गुरु बताने वाले ये सभी अपने हिसाब से हिंदु, इस्लाम, बाइबिल का बखान करते हैं। लेकिन असल धर्म जो कि किसी जाति से बिल्कुल अलग है। अब हमारे देश में मौजूदा हालातों को देखते हुए बात करें तो हिंदू और मुस्लिम विवाद काफी बढ़ गया है। इन समुदायों की आपसी स्थिति ऐसी हो गई है कि तनाव बढ़ता ही जा रहा है।

भारत माता की जय बना विवाद

देखिये वीडियो:-

ऐसा होने की एक मुख्य वजह है “भारत माता की जय” का नारा है। जिसे लेकर आय दिन कुछ न कुछ नया सामने आता रहता है। पर ये कोई नई बात नहीं कि इसे लेकर कोई नयी राजनीति की जा रही हो ये मसला तो पुराना है।

रामदेव बाबा ने कही गर्दन काटने की बात

आपको बजा दें कि कुछ समय पहले हरियाणा के रोहतक में बाबा रामदेव ने एक समारोह के दौरान एक बोहद विवादित बयान दिया था। बाबा ने इस बयान पर IMIM प्रमुख असुद्दीन ओवैसी का नाम लिए बिना ही उन पर हमला कर दिया। बाबा ने कहा, “कोई आदमी टोपी पहन कर खड़ा हो जाता है बोलता है, भारत माता की जय नहीं बोलूंगा चाहे मेरी गर्दन काट लो।”

आगे बाबा ने इस पर जवाब देते हुए कहा, “अरे इस देश में कानून है वरना तेरी एक की क्या हम तो लाखों की गर्दन काट सकते हैं। लेकिन हम इस देश के कानून का सम्मान करते हैं।”

जानें, कब शुरु हुआ था पूरा विवाद

आपको बता दें कि इस मामले पर हंगाना तब शुरु हुआ था जब आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर शुरु हुआ था जिसके बाद ओवैसी ने उस पर जवाब देते हुए मोहन भागवत का नाम लेते हुए यह बयान दिया था।

वहीं बाबा रामदेव ने हरियाणा के रोहतक में सदभावना दिवस समारोह के दौरान असुद्दीन ओवैसी का नाम लिए बिना उन पर सीधे तौर पर यह हमला किया। मंच में भाषण देने बाद जब बाबा से इस पर सवाल किया गया उस समय भी उन्होंने वही एक बात दोहराई।


शेयर करें