भारतीय सियासत को हिलाकर रख देने वाले ओवैसी के लिए अमेरीका ने कही इतनी बड़ी बात

शेयर करें

भारत की राजनीति में मुसलमानों के लिए एक बड़ी आवाज बनकर उभर रहे ऑल इंडिया मस्जिद-ए-इतहदुल मुस्लिमिन के प्रमुख असुद्दीन ओवैसी आज भारतीय राजनीति का बड़ा चेहरा बन गए हैं। मुसलमान समुदाय को लेकर उनके द्वारा उठायी जाने वाली आवाज से लोगों के बीच व आज काफी पहचाने लगे हैं।

हैदराबाद में एआईएमएआईएम का बढ़ता दबदबा

बीते पांच दशकों में मजलिस और उसे चला रहा ओवैसी परिवार की लोगों के बीे्च व इनकी राजनीति शक्ति काफी बढ़ गई है। मौजूदा हालात ऐसे हैं कि हैदराबाद पर तो पूरी तरह से ओवैसी राज ही है। हैदराबाद के विधानसभा सीटों की बात की जाए तो इनके हिस्से में आने वाली सीटे मौजूदा समय में बढ़कर 7 हो गई है। हैदराबाद से लोकसभा की सीट पर भी 1984 से ओवैसी का ही कब्जा है और इस समय हैदराबाद के मेयर भी इसी पार्टी के है।

मजलिस को आम तौर पर मुस्लिम राजनीतिक संगठन या मुस्लिम समुदाय के प्रतिनिधि के तौर में देखा जाता है और हैदराबाद के मुसलमान काफी हद तक इसी पार्टी को अपना समर्थन भी देते रहे हैं। कभी ऐसा भी होता है कि समुदाय में आतंरिक विरोध की आवाजें सुनाई देती है। वैसी परिवार की बात की जाए तो उस के हाथ में पार्टी की बागडोर साल 1957 में इस संगठन से प्रतिबंध हटाए जाने के बाद आई थी।

असुद्दीन ओवैसी के लिए लोगों के बीच लोकप्रियता

एमआईएमआई अध्यक्ष और हैदराबाद सांसद असुद्दीन ओवैसी के बयानों और विपक्षों को घेरने की उनकी नीति के लिए लोगों के बीच जाने जाते हैं। इसके अलावा अपनी तेज तर्रार बयानों के लिए ओवैसी को संसद रत्न से भी नवाजा जा चुका है।

हाल ही में कुछ समय पहले असुद्दीन ओवैसी ने उन लोगों पर सीधा निशाना साधा था। इस दौरान ओवैसी ने कहा था कि, जो लोग भारतीय मुसलमानों को पाकिस्तानी कहते हैं या पाकिस्तान जाने की बात करते हैं। ऐसे लोगों के लिए कानून में सख्त सजा का प्रावधान होना चाहिए।

मुस्लिम और अल्पसंख्य समुदाय के लिए बोलते हैं ओवैसी

एक तरफ जहां ओवैसी देश के मुस्लिम समुदायों के लिए अपनी आवाज बुलंद करते हुए नजर आते हैं वहीं हिंदुस्तान का मुस्लिम और दलित समुदाय ओवैसी को अपना मसीहा मान रहा है। इसके साथ ही ओवैसी की न केवल भारत में लोकप्रियता बढ़ रही है बल्कि विदेशों में भी लोग उन्हें पहचान रहे हैं और वहां भी उनकी लोकप्रियता में इजाफा हो रहा है।

अमेरीकी अखबार ने भी की ओवैसी की लोकप्रियता का जिक्र

अब आपको ओवैसी की लोकप्रियता से जुड़ा ही किस्सा बता दें। दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरीका के काफी मशहूर और प्रतिष्ठित अखबार ने असुद्दीन ओवैसी के लिए लिखा है कि, “हिन्दुस्तान के मुसलमान असदुद्दीन ओवैसी को एक बेबाक और बेखौफ कायद के रूप में देख रहे हैं।”

भारतीय सियासत में ओवैसी ने मचाई खलबली

असदुद्दीन ओवैसी ने जहां भारतीय राजनीति में अपने बेबाक अंदाज और बयानों के चलते काफी खलबली मचा दी है। अमेरीका के इस अखबार ने असदुद्दीन ओवैसी के लिए साथ ही यह भी लिखा कि, औरंगाबाद में हुए कार्यक्रम के दौरान ओवैसी को सुनने के लिए वहां अक्टूबर में हुए इस जलसे में करीब करबी सात हज़ार हिन्दुस्तानी मुसलमानों हिस्सा लिया था।

औरंगाबाद में हुए जलसे में हजारों लोगों की भीड़

असुद्दीन ओवैसी के इस कार्यक्रम का जिक्र करते हुए अखबार में यहां लगाए गए नारों को लेकर भी जानकारी दी गई थी। खबर के मुताबिक कहा गया है कि यहां कार्यक्रम में ओवैसी ने कहा था कि, जितना यह मुल्क दूसरों का है, उतना ही मुसलमानों का भी है।

जलसे में ओवैसी से हाथ मिलाने के लिए लोगों में होड़

औरंगाबाद में आयोजित किया गया यह जलसा जब खत्म हुआ तो लोगों के बीच ओवैसी से मिलने व उनसे हाथ मिलाने की होड़ सी मच गई। इस जलसे में शामिल होने वाले लोगों का कहना था कि “उन्होंने आज तक ऐसे बेबाक और बेखैफ लीडर को नहीं देखा।” लोगों का कहना था कि असदुद्दीन ओवैसी अब हिन्दुस्तान की सियासत के उभरते हुए सितारे हैं।

अखबार ने भी ओवैसी के लिए लिखा है कि असदुद्दीन ओवैसी मुसलमानों के सुपरस्टार हैं, जो सच्चाई को बयान करते हैं और मुसलमानों के लिए उम्मीद की किरण हैं।


शेयर करें