भारत के हर हवाईजहाज पे VT क्यों लिखा होता है…?

शेयर करें

हवाई जहाज से कम समय में ज्यादा दूरी तय किया जा सकता है। आप चाहे हवाई जहाज से यात्रा किये हो या न किये हो, लेकिन हवाईजहाज को देखे जरूर होंगे।

और चाहे कोई भी कंपनी की हवाईजहाज हो, सभी के ऊपर VT लिखा हुआ रहता है। अब इस VT क्या मतलब है, क्या आप जानते हैं, नहीं न। चलिए जानते हैं।

क्या है VT ?

इसका फुल फॉर्म, विक्टोरियन, या वाइसराय टेरिटरी है, जो विमान का राष्ट्रीय कोड है। यह ऐसा कोड है जो हर देश के हवाईजहाज का अलग होता है।

कोड विमान पर आसानी से देखा जा सकता है, पीछे के बाहर निकलने वाले दरवाजे और खिड़कियों के ऊपर/निचे होता है यह कोड|

यह कोड सभी देश के हवाईजहाज को इंटरनेशनल सिविल एविएशन आर्गेनाईजेशन (आईसीएओ) द्वारा दिया गया है। आईसीएओ द्वारा निर्धारित ग्लोबल नियमों के अनुसार, प्रत्येक विमान को देश में पंजीकृत होना अनिवार्य है। जिसमें देश कोड के रूप में दो अक्षर होते हैं, और फिर विमान के मालिक के हिसाब से बाद तीन अक्षर होते हैं, जैसे VT-ABC.

भारत के VT से क्या है सम्बन्घ

भारत पर जब ब्रिटिश राज था तब भारतीय विमानों को यह कोड मिला था । जो अभी तक चला आ रहा है। और यह दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि इतने सालों से भारत के विमान आज भी ब्रिटिश टैग का इस्तेमाल कर रही है। और भारत से इस कोड का कोई भी सम्बन्ध नहीं है।

क्या अब बदला जा सकता है इस विमानों का कोड

भारत के आजाद होने के बाद से ही ऐसा करने की सोचा गया की इस कोड को बदला जाना चाहिए। लेकिन ऐसा होना मुमकिन नहीं है। क्योंकि आईसीएओ के पास भारत के हिसाब का कोई कोड ही नहीं है।

जैसे अगर इंडिया के पहले दो वर्ड ले तो होगा IN(INDIA) होगा, भारत का BH(BHARAT) होगा और हिन्दुस्तान का HI(HINDUSTAN) होगा| और जो ऑप्शन बचे हुए हैं आईसीएओ के पास या तो वो X से शुरू होते हैं या फिर V से शुरू होते हैं।

निष्कर्ष- भारत का X और Y से दूर-दूर तक कोई सम्बन्ध नहीं है। कई बार इस विषय में नेताओं द्वारा आवाज उठाई गयी है, लेकिन इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा। और भारतीय विमानों का कोड अभी भी VT से शुरू होता है।


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े