शेयर करें

आप सभी ने कोर्ट द्वारा सुनाए जाने वाले फैसलों के बारे में तो सुना ही होगा। लेकिन जब बात आत है देश से बाहर किसी कोर्ट द्वारा सजा सुनाए जाने की तो मामला अपने में ही अलग हो जाता है।

क्योंकि फिर मामला अपने देश व अपनी सरकार के हाथ में न रहकर वह दूसरे देश की सरकार व प्रशासन के पास पहुंच जाता है।

दुबई कोर्ट द्वारा सुनाया गया फैसला सुर्खियों में

ऐसा ही एक मामला देखने को मिला है, दुबई कोर्ट में जहां दो भारतीय नागरिको को सजा सुनाई गई है।

दुबई कोर्ट द्वारा सुनायी गयी यह सजा इसलिए भी अहम है क्योंकि यहां दुबई कोर्ट द्वारा दोषी ठहराए गए दोनों आरोपियों को 500 साल की सजा सुनाई गई है। जिसके बाद से ही यह मामला सुर्खियों में आ गया है।

दो भारतीयों पर था निवेशकों को ठगने का आरोप

आपको बता दें कि दुबई कोर्ट ने रविवार को गोवा के रहने वाले सिडनी लीमोस और उसके सीनियर अकाउंट्स स्पेशलिस्ट रयान डिसूजा को एक्जिंशियल स्कैम केस 200 मिलियन डॉलर (130 करोड़ रुपये) में दोषी पाते हुए 500 साल की सजा सुनाई है।

37 साल के लीमोस और रयान डिसूजा को एक पोंजी स्कैम में हजारों निवेशकों को ठगने के आरोप में दोषी पाया गया है।

दोनों ने ही पैसा लगाने वाले निवेशकों से वादा किया था कि 25 हजार डॉलर के इनवेस्टमेंट पर उन्हें 120 प्रतिशत का रिटर्न मिलेगा।

शुरु में दोनों ने निवेशकों को होने वाले प्रॉफिट का भुगतान भी किया था, लेकिन मार्च 2016 में इनके द्वारा चलाई जा रही स्कीम के फेल होने के बाद उन्होंने आगे पैसा देना बंद कर दिया।

सुनाई गई 500 साल की जेल की सजा

दोनों के द्वारा चलाई जा रही कंपनी के ऑफिस को दुबई इकोनॉमीकि डिपार्टमेंट ने जुलाई 2016 में ही बंद करवा दिया था।

इसके साथ ही लीमो की वाइफ वालेनी कारदोजो के खिलाफ एक मुकदमा दर्ज कराया गया था।

वालेनी के खिलाफ दर्ज मामला, पिछले साल दिसंबर में सील ऑफिस में घुसने और दस्तावेज ले जाने का आरोप लगा है।

साल 2015 के दौरान लीमो तब सुर्खियों में आया था, जब एफसी प्राइम मार्केट एफसी गोवा की मुख्य स्पांसर बनी थी।

बड़े बड़े सितारों के साथ था उठना बैठना

इंडियन सुपर लीग में यह गोवा की फ्रेंचाइजी है, भारतीय फुटबॉल की इस ग्लैमरस लीग में लीमो को पहली सीट मिली और सचिन तेंदुलकर, अभिषेक बच्चन और रणबीर कपूर जैसे कलाकारों के साथ उठने बैठने का मौका भी मिला।

आपको बता दें कि ये सभी सितारे अकूत पैसे वाली इंडियन सुपर लीग से जुड़े हुए हैं।

इसके साथ ही लीमो और वालेनी को फुटबॉल जगत के बड़े स्टार जीको और रोनाल्डिन्हो जैसे खिलाड़ियों के साथ वीआईपी रूम में बैठना हुआ है।

इनकी मुलाकात दुबई के एक पॉपुलर नाइट क्लब में हुई थी, जो अपने वीआईपी क्लाइंट के लिए ही जाना जाता है।

इससे पहले ब्राजील के सुपरस्टार नेमार ने भी वालेनी के लिए 5 सेंकेड का एक वीडियो रिकॉर्ड कर उन्हें एक संदेश भेजा था।

गोवा में पहली बार हुई थी लीमो की गिरफ्तारी

गोवा में मापुसा के रहने वाले लीमो को इस मामले में पहली बार दिसंबर 2016 में गिरफ्तार किया गया था, लेकिन बाद में लीमो को रिहाई मिल गई थी।

फिर जनवरी के महीने में ही दोबारा उसे गिरफ्तार किया गया था।

सिडनी लीमो के सीनियर अकाउंट स्पेशलिस्ट रयान डीसूजा, जो कि सीओलिम का रहने वाला है, उसे पिछले साल फरवरी में गिरफ्तार किया गया था।

वहीं वालेनी गोवा से भागने में कामयाब हो गई थी। वालेनी ने टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा कि ये सभी झूठे आरोप हैं, ईर्ष्या वश लगाए गए हैं।

वालेनी ने कहा था कि, सिडनी वाकई अपने क्लाइंट्स की मदद करना चाहता है, और एक मात्र वही व्यक्ति है, जो ऐसा कर सकता है। उन्होंने कहा कि ये आखिरी फैसला नहीं है।

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें