इस क्रिकेटर को पत्नी की हत्या के जुर्म में सरेआम दी गई थी फांसी, नाम सुनकर दंग रह जाएंगे आप

शेयर करें

यह बात हम सब जानते हैं कि भारत में सबसे ज्यादा लोकप्रिय खेल क्रिकेट को माना जाता है। क्रिकेट के लोग इतने दीवाने हैं कि वही उसके आगे कुछ दिखाई नहीं देता है। कई लोग क्रिकेट देखने के चक्कर में अपना बड़ा सा बड़ा काम छोड़ देते हैं।

क्रिकेट एक समय पर बहुत ही सभ्य खेल माना जाता था। परंतु जैसे-जैसे समय बदलता गया क्रिकेट मैच फिक्सिंग में बदल गया। फिर खिलाड़ियों के बीच में झगड़े देखे जाने लगे।

जिसकी वजह से उसकी लोकप्रियता कम होने लगी। परंतु हाल ही में एक बहुत ही शर्मनाक घटना सामने आई है और वह घटना यह है कि एक क्रिकेटर को फांसी की सजा दे दी गई। क्योंकि उसके ऊपर उसकी पत्नी की हत्या का आरोप लगा था।

लेस्ली जॉर्ज हिल्टन

हम जिस क्रिकेटर की बात कर रहे हैं वह वेस्टइंडीज के क्रिकेटर हैं। और उनका नाम लेस्ली जॉर्ज हिल्टन है। इनके ऊपर यह आरोप लगाया गया था कि इन्होंने अपनी पत्नी की हत्या कर दी गई है। आइए आपको बताते हैं कि इतना बेहतरीन खिलाड़ी एक हत्यारा कैसे बन गया।

जैसा कि आप सब जानते हैं कि आजकल भारत में एक क्रिकेटर और बॉलीवुड की शादी की चर्चा जोरों से हैं। हम बात कर रहे हैं विराट कोहली और अनुष्का शर्मा की।

ऐसे ही क्रिकेट और बॉलीवुड का आपसी प्रेम मिलाप सदियों से चला आ रहा है। इस क्रिकेटर को भी एक ग्लैमर की दुनिया की लड़की रोज नाम से प्यार हो गया था और यह लड़की एक इंस्पेक्टर की बेटी थी।

कैसे शुरू हुआ प्यार

पहले इन दोनों ने दोस्ती की थी। बाद में इन दोनों ने शादी कर ली। इन दोनों की शादी 1942 में हुई थी और इन्हें एक बेटा भी है।

परंतु अचानक से 1 दिन खबर आती है कि हिल्टन ने अपनी बीवी की हत्या कर दी। जब इसके बारे में पता लगाया गया तो खबर यह सामने आई कि एक चिट्ठी में उसने लिखा था कि उसकी बीवी का अफेयर फ्रांसिस नाम के एक व्यक्ति से था।

एक दिन हिल्टन को वह चिट्ठी मिली। जिसमें उन दोनों के अफेयर की खबरें थी। जब हिल्टन ने चिट्ठी पढ़ी तो वह गुस्से में अपनी बीवी के पास गया और रात में ही उसे उठाया और खिड़की पर रखे बंदूक से गोली चलाकर उसे मार दिया। जब हिल्टन से कोर्ट में बयान लिया गया तो उन्होंने कहा कि वह गोली अपने आप को मारना चाहते थे।

ना कि अपनी बीवी को। परंतु वह गोली गलती से उनकी बीवी को लग गई।

7 गोली मारी थी अपनी बीवी को

परंतु कोर्ट में उनकी यह बात झूठी साबित हुई। क्योंकि उनकी बीवी के अंदर 7 गोलियां पाई गई थी।

अगर कोई व्यक्ति गलती से किसी को गोली मारता है तो वह उसे एक गोली मारेगा। ना की 7 गोली इसलिए उनका झूठ पकड़ा गया। उसके बाद 17 मई 1995 में उनको फांसी दे दी गई।


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े