होम General

इस गेंदबाज से टीम इंडिया को है सतर्क रहने की जरूरत

वायरल इन इंडिया संवाददाता -
शेयर करें

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच बहुत लंबे समय से गहरा रिश्ता रहा है। दोनों देशों के बीच में रिश्ते की शुरुआत हुई थी रंगभेद के खिलाफ लड़ाई से। दोनों मुल्कों ने एक साथ मिलकर काले और गोरे के बीच के भेद को खत्म करने की मांग की थी।

उस दौरान रंगभेद इतना चरम पर था कि साउथ अफ्रीका की टीम को 21 साल तक के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से बाहर ही रहना पड़ा था।

जब साल 1991-92 में दक्षिण अफ्रीका ने अपनी क्रिकेट में वापसी की तो इसका पहला दौरा भारत के साथ ही था। कोलकाता के ईडन गार्डन्स पर दक्षिण अफ्रीकी टीम ने इतने लंबे समय के बाद पहला वनडे मैच खेला था।

इसके बाद जब टीम इंडिया दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर साल 1992 में वहां गई तो उस वक्त टीम के विकेट कीपर किरण मोरे के साथ एक बच्चे ने तस्वीर खिंचवाई थी। वो दो साल का बच्चा था केशव महाराज।

वही केशव महाराज जो दक्षिण अफ्रीका की तरफ से भारत के खिलाफ सीरीज में हैं। केशव लेफ्ट आर्म स्पिनर है और भारत के खिलाफ साउथ अफ्रीकन टीम का वो अस्त्र भी है सबको हैरान कर सकता है।

किरण मोरे और केशव के पिता थे दोस्त

केशव दक्षिण अफ्रीका के डरबन में पैदा हुआ। 27 साल के इस खिलाड़ी के पिता आत्मानंद महाराज साउथ अफ्रीका के उस दौर में वहां घरेलू क्रिकेट खेलते रहे जब वहां रंगभेद के चलते इंटरनेशनल क्रिकेट बैन था। आत्मानंद एक विकेटकीपर थे और किरण मोरे से इसी के चलते दोस्ती भी थी।

एक रिपोर्ट के मुताबिक जब साल 2016 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरिज के लिए केशव को दक्षिण अफ्रीकी टीम में शामिल किया गया तो किरण मोरे ने इंडिया से ये तस्वीर केशव के पिता आत्मा को मैसेज कर के भेजी थी और कहा था कि मैंने कहा था न कि एक दिन केशव नेशनल टीम के लिए खेलेगा।

केशव ने अब तक 14 टेस्ट मैच खेले हैं और 56 विकेट भी अपने नाम किए हैं। तीन मौके ऐसे भी रहे हैं जब केशव ने 5 विकेट लिए हैं। दो वनडे मैच खेलने का भी केशव को मिल चुका है। 26 दिसंबर 2017 को जिंबाब्वे के खिलाफ आखिरी टेस्ट में केशव ने 5 विकेट लेकर भारत के खिलाफ सीरिज में अपनी जगह पक्की कर ली है।

ऐसे बनाई अपनी पहचान

स्कूल के दिनों से फास्ट बॉलिंग करने वाले केशव ने एक दिन नेट्स पर स्पिन फेंकने की प्रैक्टिस की और फिर पिता के कहने पर हमेशा के लिए स्पिनर बन गए। स्कूल की टीम में खेलते हुए 16 साल की उम्र में फर्स्ट क्लास क्रिकेट और फिर अंडर-19 टीम का हिस्सा रहते हुए केशव ने साउथ अफ्रीका की नेशनल टीम में जगह बनाई है।

खास बात तो ये कि केशव ने अपने फर्स्ट क्लास करियर में 267 विकेट लिए हैं जो साउथ अफ्रीका में किसी भी लेफ्ट आर्म स्पिनर ने नहीं लिए है।

राहुल द्रविड़ को मानते हैं अपना रोल मॉडल

राहुल द्रविड़ को अपना रोल मॉडल मानने वाले केशव को मुथैय्या मुरलीधरन और हर्शल गिब्स भी काफी पसंद हैं। अब फाफ डू प्लेसिस की कप्तानी में इस अफ्रीकी टीम का अहम हिस्सा बन गए हैं।

http://www.newstimes.co.in/news/53492/Bharat/DELHI/keshav-trouble-to-team-india-

शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े