शेयर करें

आज दुनिया का हर देश दुसरे देश को गुलाम बनाने के लिए आए दिन अपनी ताकत का प्रदर्शन करता रहता है. जो देश बड़े हैं वो दुसरें देशों पर कब्ज़ा करने में लगे हैं और जो छोटे देश हैं वो बड़े देशों से बचने के संघर्ष में लगे हैं.

हर देश अपनी सेना को बना रहा है ताकतवर

ऐसे में जो एक बड़ा सवाल खड़ा होता है वो ये हैं कि आखिर वो कौनसे देश हैं जिनसे जीतना न केवल मुश्किल हैं बल्कि करीब-करीब असंभव है.

आज सभी देश खुद को मजबूत करने के लिए अपने देश की सेना की ताकत बढाने में जुटे हैं. इसलिए आज हर देश नए-नए अत्याधुनिक हथियार बनाने व दुसरे देशों से खरीदने में लगा है.

दुनिया के सबसे ताकतवर देशों की लिस्ट ने कर दिया हैरान

ऐसे में क्या आप जानते हैं कि दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना आखिर किस देश के पास है? अगर नहीं तो आज हम आपको इसी बात से अवगत कराने के लिए कुछ बेहद जरुरी बाते बताएंगे. चलिए सिलसिलेवार ढंग से जानते है दुनिया के सबसे ताकतवर देशों की सेनाओं के बारे में.

अमेरिकी सेना को मिला पहला नंबर तो वहीं चीन रहा दुसरे स्थान पर

दरअसल, मौजूदा समय में जहाँ एक ओर दुनिया भर के देशों में अलग अलग वजहों को लेकर तनातनी बनी हुई है. ऐसे में ग्‍लोबल फायरपावर द्वारा एक लिस्ट जारी की गई है. इस बेहद अनोखी लिस्ट में दुनिया के ताकतवर देशों की सेनाओं पर आधारित कुछ बेहद जरुरी बाते बताई गई है. इस लिस्‍ट दुनिया के 133 देशों को रखा गया है. जिसमें अमेरिकी सेना को जहां दुनिया की सबसे ज्‍यादा ताकतवर बताया गया हैं तो वहीं चीन ने इस लिस्ट दूसरा स्थान प्राप्त किया हुआ है.

भारत तीन सालों से चौथे नंबर पर है बरकरार 

इसी के साथ भारत को चौथे नंबर पर रखा गया है. सबसे बड़ी बात इसमें ये निकल कर आई कि भारत पिछले तीन सालों से चौथे नंबर पर ही अटका हुआ है. इसी के साथ पड़ोसी देश पाकिस्तान इस लिस्ट में 13वें नंबर पर है. इस लिस्‍ट को जारी करने वाले ग्‍लोबल फायर पावर का कहना है कि..

“हमारा मकसद इस तरह से सेनाओं का आंकलन करना है जो तकनीकी रूप से समृद्धशाली हों और दूसरे देशों के साथ प्रतियोगिता कर सके.”

भारत से पीछे हैं यूके, जापान, टर्की, और जर्मनी जैसे बड़े देश

लिस्‍ट के अनुसार अमेरिका की सेना नंबर एक पर, चीन नंबर दो, रूस नंबर तीन और फिर भारत का नंबर चौथा है. भारत के बाद इस सूचि में यूके, जापान, टर्की, जर्मनी और ऐसे कई अन्य देशों के नाम शामिल है.

सैन्‍यबल में भारत चीन से हैं आगे 

लिस्ट को जारी करते हुए ग्‍लोबल फायर पावर ने ये भी बताया कि..

“सैन्‍यबल की तुलना में भारत, चीन से कहीं आगे है. जहां भारत के पास 4,207,250 सैन्‍यबल है तो वहीं चीन के पास सिर्फ 3,712,500 है. लेकिन चीन सक्रिय सैनिकों की संख्‍या की वजह से भारत पर भारी पड़ता है.”

story source: http://www.theakhbaar.in/aa-gaei-duniya-ke-saktishali-senao-ki-lst-dekhiye-kaha-bai-bharat-aur-pakistan/

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें