होम General

विश्व के इस शक्तिशाली देश में इस्लाम अपनाने की संख्या में हुई दोगुनी वृद्धि

वायरल इन इंडिया संवाददाता -
शेयर करें

आज की तारीख में इस्लाम के खिलाफ पूरे विश्व में प्रोपगेंडा फैलाया जा रहा है। इस्लाम के खिलाफ प्रचार करने के लिए करोड़ों रुपये भी खर्च किए जा रहे हैं। जिस वजह से इस्लाम और मुसलमानों के साथ आज पूरे विश्व में बहुत अन्याय किया जा रहा है। लोगों को इस्लाम में न जाने की सलाह दी जा रही है।

लेकिन इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता है कि इस्लाम ही एक ऐसा मजहब है जो तमाम नकारात्मक प्रचारों और दिक्कतों के बाद भी बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा है। इसका परिणाम ब्रिटेन में देखने को मिला है।

ब्रिटेन में आम लोगों में इस्लाम

ब्रिटेन में सामान्य लोग इस्लाम की तरफ तेजी से आ रहे हैं। पिछले कुछ सालों में एक लाख से ज्यादा लोगों ने इस्लाम धर्म को स्वीकार कर लिया है। उनमें से ज्यादातर सफेद युवा महिलाएं हैं, जबकि पिछले साल 5000 से अधिक ब्रिटिशों ने इस्लाम में प्रवेश किया है।

पिछले 10 सालों की अगर तुलना की जाए तो ब्रिटेन में इस्लाम को स्वीकार करने वाले लोगों की संख्या दुगनी हो चुकी है। इनमें से अधिकतर सफेद महिलाएं हैं जो समाज के दुर्व्यवहार और भौतिकवाद से परेशान थी। ये महिलाएं आध्यात्मिक शान्ति की तलाश में थीं जो उन्हें इस्लाम में मिला।

सर्वेक्षण में हुआ खुलासा

एक लंबे सर्वेक्षण के बाद, ब्रिटेन में “फैथ मीटर्स” ने कहा है कि ब्रिटेन में इस्लाम धर्म तेजी से अपने पैर पसार रहा है और महिलाओं और सज्जनों द्वारा इस्लाम को स्वीकार किया जा रहा है।

यह साफ है कि पूर्व ब्रिटिश प्रधान मंत्री टोनी ब्लेयर की बहू लॉरेन बूथ के द्वारा इस्लाम स्वीकार करने के बाद इस्लाम धर्म स्वीकार करने की प्रवृत्ति ब्रिटेन में बढ़ गई और यह ब्रिटिश मीडिया में बहुत महत्वपूर्ण था।

हालांकि, फैथ मिटर ने कहा है कि इतनी बड़ी संख्या से इस्लाम को स्वीकार करने का उद्देश्य पश्चिमी जीवन शैली के खिलाफ नहीं है, लेकिन सामान्य पुरुष इस्लाम धर्म की तरफ बढ़ रहे हैं, और उनके पास पश्चिमी समाज और मूल्यों के साथ इस्लाम संगत भी है।

5200 लोगों ने एक साल में इस्लाम कबूला

सर्वेक्षण के अनुसार, 5200 लोगों ने पिछले एक साल में इस्लाम को कबूल किया है जिनमें लंदन के लोगों की संख्या 1400 है। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस्लाम स्वीकार करने के बाद कुछ लोगों ने निक रिले समेत आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई की थी, जिन्होंने एक रेस्तरां को उड़ा देने की कोशिश की थी।

50% महिलाओं ने इस्लाम स्वीकार करने के बाद स्कार्फ पहनना शुरु कर दिया हैं तो वहीं जबकि 5% ने ब्रेक चुना है। आधे से ज्यादा लोगों ने कहा है कि इस्लाम अपनाने के बाद, उन्होंने अपने परिवार के नकारात्मक व्यवहार का सामना किया है।

शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े