शेयर करें
  • 39.1K
    Shares

साल 2018 भारतीय जनता पार्टी के लिए काफी बुरा साबित हुआ है सत्ता की भूखी मोदी सरकार को इस साल में किसी भी चुनाव में जीत हासिल नहीं हो पाई है।

इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि बीजेपी के गढ़ माने जाने वाले मध्य प्रदेश राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हुए विधानसभा चुनाव को भी बीजेपी जीत नहीं आई है।

मध्यप्रदेश में बीजेपी को लगा एक और झटका

अब खबर सामने आ रही है कि बीजेपी को मध्यप्रदेश में ही एक और झटका लगा है।

दरअसल मध्यप्रदेश विधानसभा में आज स्पीकर का चुनाव हुआ और सदन की कार्यवाही शुरू होते ही दो विधायक यशोधरा राजे सिंधिया मालिनी गौड़ को प्रोटेम स्पीकर दीपक सक्सेना ने शपथ दिलाई।

जिसके बाद विधानसभा सदन में हंगामे की स्थिति बन गई।

विधानसभा में कांग्रेस और बीजेपी के बीच हुआ हंगामा

खबर के मुताबिक सत्ता पक्ष की तरफ से एनपी प्रजापति को स्पीकर बनाए जाने का प्रस्ताव सदन में पेश किया गया था।

इसके बाद प्रतिपक्ष नेता गोपाल भार्गव ने भाजपा प्रत्याशी विजय शाह का प्रस्ताव पेश करने बात कही तो संसदीय कार्य मंत्री गोविंद सिंह ने इस पर आपत्ति जताई।

उनका कहना था कि जो प्रस्ताव पहले आ चुका है, वही मान्य रहेगा।

बीजेपी ने कांग्रेस पर लगाया ये आरोप

सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच इस बात को लेकर हंगामे की स्थिति बन गई और स्पीकर ने सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया। इस मामले में बीजेपी ने कांग्रेस पर लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाया है।

स्पीकर के चुनाव के दौरान अध्यक्ष दीर्घा में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, सुरेश पचौरी एवं पूर्व डिप्टी स्पीकर राजेन्द्र सिंह मौजूद थे।

कांग्रेस ने अपने फैसले पर दिया ये तर्क

आपको बता दें कि स्पीकर चुनाव प्रक्रिया से पहले भाजपा ने गुप्त मतदान की मांग की थी। जिसे विधानसभा में खारिज कर दिया।

जिसपर बीजेपी ने कांग्रेस के खिलाफ विरोध भी जाहिर किया। इसपर पलटवार करते हुए कांग्रेस ने विपक्ष को ये तर्क दिया कि राज्यसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने ही ओवन वोटिंग की शुरूआत की थी।


शेयर करें
  • 39.1K
    Shares