बड़ी खबर : मोदी सरकार का समुद्री प्लेटफॉर्म घोटाला आया सामने, 20 हजार करोड़ का घपला

शेयर करें

राफेल डील पर बुरी तरह घिर चुकी मोदी सरकार अब एक और घोटाले में फंसने जा रही है.उद्योगपतियों की मदद से सत्ता के शिखर पर पहुंचे नरेंद्र मोदी अब उनकी मदद कर एहसान उतार रहे हैं लेकिन वह यह भूल जाते हैं कि वह देश के प्रधानमंत्री हैं और नैतिकता जैसी भी कोई चीज होती है. मोदी ने सारी मर्यादाओं को ताक पर रख दिया है.

1. रक्षा सौदों में घोटालों की भरमार

देश का रक्षा सौदा कितना अहम मामला है, इसकी जानकारी साधारण से साधारण नागरिक को है लेकिन पीएम मोदी को न जाने कौन सा भूत चढ़ा हुआ है कि हर रक्षा सौदा अनिल अंबानी की कंपनी को हीं देने में व्यस्त हैं. सरकारी कंपनियां दम तोड़ रही है और मोदी ज्यादा से ज्यादा पैसा अंबानी समूह को दे रहे हैं.

2. नेवी में घोटाला

राफेल डील का मामला तो आपको पता ही होगा. उसके अलावा नरेंद्र मोदी ने अनिल अंबानी को 20 हजार करोड़ रुपये का एमबीफियास प्लेटफॉर्म का ठेका दे दिया है. यह प्लेटफॉर्म उन वाहनों के नीचे लगता है जो समुद्र में चलते हैं. समुद्री जहाज के साथ साथ ये पानी में चलने वाले टेंकों में लगाया जाता है.

3. यूपीए का टेंडर रद्द

2013 में यूपीए सरकार ने इस प्लेटफॉर्म के निमार्ण के लिए टेंडर निकाला था जिसमें चार सरकारी कंपनियों ने हिस्सा लिया था. मोदी ने पीएम बनते हीं उस टेंडर को रद्द कर दिया और नया काम अपने चहेते अनिल अंबानी को दे दिया.


शेयर करें