उधर लालू को हुई जेल और इधर सदमे में इन्होंने तोड़ा अपना दम

राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू यादव को चारा घोटाला में साढ़े तीन साल की सजा मिलने के बाद उनकी बड़ी बहन गंगोत्री देवी का निधन हो गया हैै। इस घटना से पूरा परिवार शोक में है। लालू की बहन गंगोत्री देवी कल पूरा दिन अपने भाई के लिए दुआएं मांगती रही।

लालू के परिवार का कहना है कि उनका निधन लालू को सजा मिलने के कारण सदमा लगने से हुआ है। लालू प्रसाद के जेल में रहने की वजह से रविवार को हो रहे बहन के अंतिम संस्‍कार में वो शामिल नहीं हो पाए।

लालू की बहन का हुआ अंतिम संस्कार

लालू प्रसाद की बहन गंगोत्री देवी का अंतिम संस्कार उनके गांव पंचदेवरी में किया गया। रविवार को पटना में लालू प्रसाद की इकलौती बहन गंगोत्री देवी का निधन हो जाने के बाद देर शाम उनका शव चक्रपान गांव लाया गया।

उनके अंतिम संस्कार करने की जानकारी मिलने पर सुबह से ही आरजेडी के कार्यकर्ता और रिश्तेदारों का चक्रपान गांव आने का सिलसिला शुरू हो गया। जिला अध्यक्ष रेयाजुल हक राजू समेत काफी संख्या में लोग वहां पहुंचे। तेजस्वी यादव के आने की भी सूचना थी लेकिन वो नहीं आये। काफी देर इंतजार के बाद गंगोत्री देवी का गांव के पास घाट पर अंतिम संस्कार किया गया। गंगोत्री देवी के बेटे बालेश्वर यादव ने उन्हे मुखाग्नि दी।

आपको बता दें कि गंगोत्री देवी के तीन बेटों में एक की मौत हो चुकी है, जबकि बाकी दो बिहार पुलिस और रेलवे में नौकरी करते हैं। वो लालू के छह भाइयों में अकेली बहन थीं। जो कि पहले से ही बीमार भी चल रहीं थीं।

लालू के जेल जाने से आहत थीं बहन

चारा घोटाला में सीबीआई की विशेष अदालत ने लालू प्रसाद यादव को साढ़े तीन साल की सजा दी। इसके पहले अदालत ने लालू को 23 दिसंबर को दोषी करार देकर जेल भेज दिया था। लालू की बड़ी बहन इस घटना से बहुत आहत थीं।

रविवार सुबह हो गई मौत

शनिवार को अदालत द्वारा सजा सुनाए जाने के पहले से ही लालू प्रसाद यादव की बहन लगतार उनके लिए दुआएं कर रहीं थीें। परिवार के अनुसार देर शाम लालू को सजा सुनाए जाने के बाद उन्‍हें सदमा लगा। जिससे वो उभर नहीं पाईं और उनकी मौत हो गई। इस घटना से लालू परिवार भी आहत है।

कहतीं थीं, पैसे वालों ने फंसाया

गंगोत्री के बेटे के अनुसार जब से लालू प्रसाद जेल गए हैं, उनकी मां गंगोत्री देवी को उनकी चिंता खाए जा रही थी। वो आधी रात में जागकर लालू के बारे में पूछतीं थीं। लालू से बात करने की जिद करने लगतीं थीं। कहतीं थीं कि उनके भाई को पैसे वाले लोगों ने फंसा दिया है।

राबड़ी बोलीं, लालू के जेल जाने का लगा था सदमा

घटना से आहत गायत्री देवी के भतीजे और लालू के छोटे बेटे तेजस्‍वी यादव ने इसे परिवार के लिए दुख की घड़ी कहा है। उन्‍होंने कहा कि उनका अंतिम संस्‍कार पैतृक गांव में करने की तैयारी की जा रही है। राबड़ी देवी ने कहा कि गायत्री देवी लालू के 6 भाइयों में अकेली बहन थीं। उन्‍हें गहरा सदमा लगा है जिससे उनकी मौत हो गई।

घटना के बाद लालू प्रसाद के वकील प्रभात कुमार लालू प्रसाद के पैरोल के लिए कोशिश कर रहे हैं। इसके लिए अदालत की अनुमति जरूरी है।

लालू की जमानत के लिए भी कोशिश की जा रही है। पैरोल या जमानत मिलने पर लालू बहन के अंतिम संस्‍कार के बाद के कर्मकांडों में शामिल हो पाएंगे। इस बीच लालू की बहन का अंतिम संसकार गाेपालगंज के पंचदेवरी में किया गया।

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

Taran

यह खबर वायरल इन इंडिया के वरिष्ट पत्रकार के द्वारा लिखी गयी है| खबर में कोई त्रुटी होने पर हमें मेल के द्वारा संपर्क करें- [email protected]आप हमें इस फॉर्म से भी संपर्क कर सकते हैं, 2 घंटे में रिप्लाई दिया जायेगा |

Close