सोचो अगर बलात्कारी भाजपा नेता सऊदी में होता तो…?

शेयर करें

भारतीय जनता पार्टी के उत्तर प्रदेश के विधायक ने बलात्कार किया, लेकिन अगर उसने वही चीज़ सऊदी में की होती जहाँ सरिया कानून लागू है तो क्या हाल होता उसका, आइये आज ज़रा ढंग से जान लेते हैं |

सऊदी अरब हमेशा से ही खाड़ी देशों में ऐसा देश रहा है जो अपने नियम व कानून के लिए जाना जाता है। सऊदी अपने कड़े फैसलों और नियमों के लिए दुनियाभार में जाना जाता है। अगर बीते 5 सालों में सऊदी को देखे तो उसने अपनी कट्टरवादी छवि में बदलाव करने जैसे कई निर्णय लिए हैं। जिसके लिए सऊदी अरब ने खासतौर से अपनी महिलाओं के लिए कदम उठाए हैं।

इसके साथ ही सऊदी ने अपनी इकॉनोमी में सुधार लाने के लिए भी अब नए व अहम फैसलों पर कम करना शुरु कर दिया है। गौर करें तो यहां सऊदी प्रिंस सलमान की यह कोशिश है कि वे सऊदी के लोगों को एक नई इकॉनोमी व लाइफस्टाइल दे सकें।

 

यहां हम आपको आज ऐसे ही कुछ सख्त कानूनों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे आप जान सकेंगे कि वाकई में सऊदी अपने नियम व कानूनों को लेकर कितना पाबंद हैं।

हाल ही में सऊदी अरब में 14 लोगों को मौत की सजा सुनाई गई है। आपको बता दें कि इन लोगों पर साल 2011 से 2012 के बीच सरकार विरोधी मामलों में शामिल होने का खासतौर से आप से आरोप है।

 

आपको बता दें कि सऊदी अरब में सख्त इस्लामिक कानून के चलते बीते साल ही 153 लोगों को सजा-ए-मौत सुनाई गई थी। इनमें से ज्यादातर लोगों को तो भीड़ के बीच सिर कलम करके मौत के घाट उतारा गया था।

जानें, बलात्कार पे क्या है सऊदी में सजा ?

सऊदी अरब में जादूटोना जैसे गलत कामों में वीलीन रहने वाले लोगों को दोषी पाए जाने पर इस्लामिक कानून के तहत सीधे मौत की सजा सुनाई जाती है।

सऊदी अरब का कानून बेहद सख्त माना जाता है, अगर कोई व्यक्ति राजद्रोह या आंतकवाद जैसे मामलों में शामिल होता है तो उसे मौत की सजा से बचने की कोई उम्मीद नहीं है।

 

बलात्कार और समलैंगिकता जैसे मामलों पर काफी गंभीर सजा सुनाई जाती है। इन अपराधों के लिए भी दोषी को सीधे तौर पर सजा-ए-मौत दी जाती है।

बड़े से लेकर छोटे कानून के उल्लंघन पर है कड़ी सजा

किसी साजिश या बिना किसी इरादे से हत्या करने पर भी आरोपी को इस्लामिक कानून के तहत मौत दी जाती है।

सऊदी अरब में शराब पीना भी एक अपराध के दायरे में रखा जाता है इसलिए जो भी व्यक्ति शराब पीता हुआ पकड़ा गया तो उसे सजा के तौर पर 500 कोड़े लगाए जाते हैं।

शादी के बाद किसी गैर मर्द या औरत के साथ गलत रुप से शारीरिक संबंध बनाने वाले आरोपी औरत या मर्द को सजा के तौर पर पत्थर से मारकर मौत दी जाती है।

सऊदी अरब में शादी से पहले शारीरिक संबंध बनाना अपराध माना जाता है और अपराध का उल्लंघन करने वाले को दोषी करार देते हुए सजा के तौर पर 100 कोड़े लगाए जाते हैं।

कोड़ों से लेकर सजा-ए-मौत

सऊदी अरब में चोरी और लूटपाट के मामले को काफी गंभीरता के साथ देने वाले आरोपी को उसका दायां हाथ काटकर सजा दी जाती है।

वहीं चोरी और लूटपाट के साथ हत्या करने वाले को कड़ी सजा सुनाई जाती है जिसके साथ ही उसे सजा-ए-मौत की सजा दी जाती है।

 

देश के कानून के साथ नहीं करती समझौता सऊदी सरकार

सऊदी अरब में ड्रग्स की स्मगलिंग और उसके इस्तेमाल पर भी पूरी तरह से पाबंदी है अगर किसी ने इस कानून को तोड़ने की कोशिश की तो उस पर कोड़े मारने से लेकर मौत तक व्यक्ति को छोड़ा नहीं जाता।

गौरतलब है कि सऊदी अरब में अपराधों पर लगाम लगाने के लिए ही सख्त कानून बनाए गए हैं और यहां दोषी पाए जाने पर किसी को भी माफी नहीं किया जाता है, बल्कि ज्यादातर अपराधों के लिए मौत की सजा दी जाती है।


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े