कोटक बैंक मेनेजर विष्णु नंदकुमार ने फेसबुक पे पोस्ट डाला “ठीक रहा मर गयी असीफा”… पढ़े स्टेटस

जहां इन दिनों बलात्कार जैसी वारदातों को लेकर देशभर में काफी रोष है तो वहीं केरल के एक प्राइवेट बैंक के कर्मचारी को कंपनी बाहर करने पर मजबूर हो गई क्योंकि कर्मचारी द्वारा जम्मू के कठुआ में 8 साल की मासूम रेप पीड़ित लड़की पर उसने काफी भद्दे कमेंट किए।

जम्मू के कठुआ में 8 साल की मासूम के साथ दरिंदगी

आपको बता दें कि जम्मू के कठुआ में रहने वाली 8 साल की आसिफा के साथ कुछ दरिंदों ने मिलकर दुष्कर्म किया और फिर उसकी हत्या कर दी।

इस हादसे से आसिफा के घर वाले भी इतने गरे और सहमे हुए है कि बेचारों के पास कोई विकल्प न होने पर उन्हें अपना ही गांव छोड़ कहीं और जाना पड़ा।

हालांकि यह पूरा मामला न सिर्फ जम्मू बल्कि देशभर में काफी सुर्खियों में है, और लोग इसके खिलाफ अपनी आवाज उठा रहे हैं।

कोटक महिंद्रा के असिस्टेंट मैनेजर ने की लड़की पर भद्दी टिप्पणी

वहीं हम आपको बता दें कि प्राइवेट बैंक कोटक महिंद्रा की कोची ब्रांच ने अपने असिस्टेंट ब्रांच मैनेजर विष्णु नंदकुमार को इस मामले को लेकर ही नौकरी से निकाल दिया है।

आपको बता दें कि 8 साल की मासूम के साथ हुए इस हादसे को लेकर बोलते हुए विष्णु ने अपने फेसबुक पर लिखा था, “यह अच्छा हुआ कि उसे इस उम्र में ही मार दिया गया, नहीं तो, वह बड़े हो जाती और भारत में बम फेंकती।”

सोशल मीडिया पर फूटा लोगों का गुस्सा

जिसके बाद विष्णु नंदकुमार का यह पोस्ट काफी ज्यादा शेयर किया गया और बैंक का फेसबुक पेज इस तरह के कमेंट से भर गया जिसमें विष्णु को निकाले जाने की मांग होने लगी थी।

आपको बता दें कि न केवल फेसबुक बल्कि ट्विटर पर भी विष्णु को निकाले जाने की बात काफी ट्रेंड कर रही थी। यह हैशटैग डिसमिस यूअर मैनेजर के नाम से ट्रेंड करने लगा था।

कोटक महिंद्रा ने बरखास्त किया विष्णु नंदकुमार को

 

शुक्रवार की शाम को कोटक महिंद्रा की ओर से एक बयान जारी किया गया। जिसमें उन्होंने कहा कि वे विष्णु नंदकुमार को उनकी नौकरी से बर्खास्त करते हैं।

बैंक की तरफ से कहा गया, हमने विष्णु नंदकुमार को उनकी बैंक की नौकरी से बुधवार 11 अप्रैल 2018 को उनके खराब प्रदर्शन के कारण निकाल दिया है।

 

यह बेहद निराशाजनक है कि इस तरह की टिप्पणी देखने को मिली। किसी के साथ हुई यह घटना दुख देने वाली है जिसमें पूर्व कर्मचारी शामिल है। हम इस कथन की निंदा करते हैं।

बैंक द्वारा उठाया यह कदम

यह हम कह सकते हैं कि सोशल मीडिया पर लोगों की प्रतिक्रिया के दबाव में आकर भले ही बैंक ने यह कदम उठाया हो, लेकिन यह वाकई में सराहनीय है।

जहां देश की मासूम बेटियों के साथ इस तरह की हैवानियत की जा रही है उस तरह से देखा जाए तो इसे समर्थन देने वालों को बक्शा नहीं जा सकता।

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

Viral in India Reporter

यह खबर वायरल इन इंडिया के वरिष्ट पत्रकार के द्वारा लिखी गयी है| खबर में कोई त्रुटी होने पर हमें मेल के द्वारा संपर्क करें- [email protected]आप हमें इस फॉर्म से भी संपर्क कर सकते हैं, 2 घंटे में रिप्लाई दिया जायेगा |
Close