शेयर करें
  • 19.1K
    Shares

एक दशक से ज्यादा समय से मध्य प्रदेश में घोटाला और तानाशाही तरीके से सरकार चलाने वाली भाजपा को इस बार सूबे की जनता ने करारी शिकस्त दी है.

अब सत्ता में है कांग्रेस और सीएम हैं कमलनाथ और जनता ने जिस उम्मीद की साथ कांग्रेस को वोट दिया था, सीएम बनने के बाद कमलनाथ ने पूरी ईमानदारी से अपने वादे पूरे कर रहे हैं.

उम्मीद पर खरे उतरते कमलनाथ

फिलहाल सभी सत्ता में आये कांग्रेस को ज्यादा वक़्त नहीं हुआ है लेकिन अभी से बदलाव और बेहतरी की तस्वीर सामने आने लगी है, बड़ी बात यह है कि सीएम कमलनाथ एक तरफ जहाँ सख्ती से अपने काम को अंजाम दे रहे हैं.

सूबे का विकास ही है सिंगल एजेंडा

Kamal Nath cm mp

वहीँ दूसरी तरफ उन्होंने सूबे के विकास के आगे अपनी निजी भावना को किनारे रख दिया है. इस बात का सबसे बड़ा सबूत है उस टीचर को माफ़ करना, जिसने उनके खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी.

दरअसल मामला कुछ यूँ है कि माध्यमिक शाला राईट टाऊन, जबलपुर के प्रधानाध्यापक मुकेश तिवारी ने अंजाने में सीएम कमलनाथ पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी.

बोलने की आजादी के हैं पक्षधर

जिसके बाद टीचर के खिलाफ सिविल सेवा आचरण नियम के उल्लंधन के तहत कार्यवाही करते हुए कलेक्टर जबलपुर ने उसके निलंबन का आदेश दे दिया था. हालाँकि अब सीएम के आदेश पर निलंबन का आदेश वापस ले लिया गया है और टीचर को उसके पद पर बहाल कर दिया गया है.

यूँ जीता जनता का दिल

इस बारे में खुद सीएम ने सामने आकर बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि लोकतंत्र में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता सभी को है. उन्होंने आगे कहा है कि वह हमेशा से इसके पक्षधर रहे है.

ऐसे में जैसे ही इसकी जानकारी हुई, उन्होंने फ़ौरन टीचर को उसके पद पर बहाल करने का आदेश दे दिया. उन्होंने आगे कहा है कि न जाने कितने सालों से इस पद पर आने के लिए उन्होंने मेहनत की होगी.

अब अगर उनके खिलाफ कार्यवाही की गई, तो न सिर्फ वह बल्कि उनका परिवार भी मुश्किल में पड़ सकता है. इसलिए मैं उन्हें निजी तौर पर माफ़ करता हूँ.


शेयर करें
  • 19.1K
    Shares