सऊदी अरब में महिलाओं की खूबसरूती का है ये राज, आपको भी जानकर होगा ताज्जुब

शेयर करें

सऊदी अरब हमेशा से ही खाड़ी देशों में आने वाला देश है जो अपने अलग संस्कृति के नाम पर जाना जाता है। यह देश शुरु से ही अपने नियम व कानूनों को लेकर दुनियाभर में मशहूर है। जहां सऊदी सरकार खुद से ही अपने देश की संस्कृति और नियमों को लेकर काफी सख्त है तो वहीं पिछले कुछ समय से वहां की सरकार ने लोगों के हित को देखते हुए कई अहम फैसले लिए हैं।

सऊदी सरकार ने लिए सराहनीय कदम

आपको बता दें कि सऊदी ने अपनी कट्टरपन की छवि से बाहर निकल पिछले 5 सालों में देश की महिलाओं के लिए कई सराहनीय कदम उठाए हैं।

जहां अब तक सऊदी अरब में महिलाओं के लिए कई तरह की पाबंदियां लगाई जाती थी, वहीं महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए सऊदी सरकार ने नए फैसले उठाएं है।

हमेशा से कानून के बोझ तले दबी सऊदी महिलाएं अब बतौर ड्राइवर अब गाड़ियां चला सकती है।

साथ ही कुछ समय पहले सऊदी सररकार ने महिलाओं को वोटिंग का भी अधिकार दिया है, इसके अलावा वे अब चुनाव में भी खड़ी हो सकती हैं।

इसके साथ ही एक गौर करने वाली बात है कि सऊदी के प्रिंस सलमान अपने लोगों को नई लाइफस्टाइल व इकॉनोमी देना चाहते हैं।

सऊदी के लोगों में स्वास्थ्य को लेकर जागरुकता

इसके साथ ही सऊदी के लोग खुद भी अपनी लाइफस्टाइल व स्वास्थ्य के लिए जागरुक हैं। जहां न केवल पुरुष बल्कि महिलाएं भी स्वास्थ्य को प्रति जागरुक रहती हैं।

सऊदी में फिटनेस विशेषज्ञों के मुताबिक, सऊदी के लोग फिट रहने के लिए जीवनशैली को बदलने वाले कई कदम उठा रहे हैं।

महिलाएं खातौर से हैं फिटनेस को लेकर सचेत

साथ ही उनका कहना है कि फिटनेस के खातिर यहां लोग कुछ भी करने को तैयार रहते हैं, फिर चाहे मेहनत करनी हो या फिर खाना पीना वे हर चीज पर ध्यान देते हैं।

अरब न्यू के मुताबिक, 22 साल की बासममा मुख्तार, जो कि एक निजी ट्रेनर के रूप में इंटरनेशनल स्पोर्ट्स साइंसेज एसोसिएशन (आईएसएए) के साथ जुड़ी हुई है।

बासममा बताती हैं कि, “फिटनेस इंडस्ट्री ने सऊदी अरब में काफी विस्तार किया है। जहां ज्यादातर लोग अपने स्वास्थ्य रहने के लिए वर्कआउट कर रहें है और साथ ही योग भी कर रहे है।”

सऊदी महिलाओ का जिम की तरफ रुझान

आगे वे कहती हैं कि, ‘अब सऊदी का माहौल बदल रहा है। अब फिट रहने के लिए सऊदी महिलाएं जिम जा रही है। ताकि वह मोटापे की चपेट में ना आ सकें।’

“सऊदी अब कार्यक्रम, अभियान, सोशल मीडिया और कई अन्य फिटनेस क्लबों के माध्यम से फिटनेस के संपर्क में है।”

बासममा मुख्तार बताती हैं कि, स्वास्थ्य हमेशा सख्त आहार में रहना नहीं होता है, या बाकी सभी दिन बिना आराम के दिन काम करना होता है।”

जिम करने से मिलता है आराम

अरब न्यूज के मुताबिक, बासममा मुख्तार का कहना है कि, सऊदी महिलाओं का मानना है जिम और वर्कआउट करके वे तनाव मुक्त रहती है। अब जिम जाना सऊदी महिलाओं के रोज के नियमों में शामिल हो गया है।

जेद्दाह में आरके फिट वर्कआउट स्टूडियो के एथलीट और संस्थापक रीहम कमाल ने भी सउदीस के बीच फिटनेस के बारे में जागरूकता बढ़ती देखी है।

रीहम कमाल बताती हैं कि, “मुझे इस बात पर बहुत गर्व है क्योंकि दो साल पहले, कई महिलाओं ने मुझे अपने शरीर के आकार पर ही ध्यान केंद्रित किया था, लेकिन अब यह उनके बारे में अधिक है कि वह इसे अपनी जीवन शैली के रूप में कैसे देखती है और खुद को कितना फिट रखती है।”

Story Source : https://worldnewsarabia.com/arab-news/health-saudi-arabia-fitness-awareness-growing-among-saudis-32527


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े