शेयर करें

मर्दों और महिलाओं में सामाजिक तौर पर भेदभाव कोई आज की बात नहीं है, ये तो इस समाज में सदियों से चला आ रहा है। महिलाओं को पितृसत्ता के नीचे दबकर रहने को मजबूर किया जाता रहा है। फिर चाहे वह रहन-सहन की बात हो या फिर पहरावे की। शारीरिक बनावट से ही नहीं बल्कि कई चीजो में अलग होते है।

लड़के औैर लड़कियों दोनो के रहन-सहन ,लाइफ स्टाइल,पहनावे आदि सभी चीजो में ही अंतर होता है। हम हर दिन नए-नए लड़के लड़कियो को देखते हैं। सभी ने अलग-अलग तरह के कपडे पहने होते हैं। अपने अक्सर महिलाओं को शर्ट पहने देखा होगा।

क्या आप जानते हैं महिलाओं की शर्ट में क्यों नहीं होती जेब

लेकिन क्या आपने कभी गौर किया है कि लड़कियों के कपड़ो में या शर्ट में जेब क्यों नहीं होती? शायद किया भी हो। लेकिन क्या आप इसके पीछे की वजह जानते हैं ? अगर नहीं जानते तो क्या इसके पीछे की वजह को जान्ने की जरूरत की है ?

लड़कियों की शर्ट में जेब नहीं होता, लेकिन इसके पीछे की वजह बहुत कम लोगों को पता है। लेकिन, जब हम इसके कारण की बात करते हैं तो इसके पीछे हमारी परंपरा और मानसिकता नजर आती है। पुराने जमाने में महिलाओं या लड़कियों की शर्ट में जेब नही होती थी।

परंपरा और मानसिकता से जुड़ा है ये मामला

देखा जाए तो यह हमारी परंपरा और मानसिकता से जुड़ा मामला है। ऐसा कहा गया है कि पुराने जमाने में महिलाओं के कपड़ो में जेब नहीं बनाई जाती थी क्योंकि उस समय इस तरह के कपडे पहनने को काफी बुरा माना जाता था। और इसके पीछे केवल मानसिकता ही विशेष कारण है। कि अगर महिलाओं के कपड़ों मेंं जेब होगी तो वे अपनी जेब में कुछ न कुछ चीज जरूर रखेंगी। जिसके कारण उनके शरीर की सुंदरता खत्म हो जाती है।

महिलाओं को माना जाता था सुंदर दिखने वाली वस्तु

हैरान करने वाली बात ये है कि उस जिस तरह से आज महिलाओं को सिर्फ सुंदर दिखने की वस्तु ही मानी जाती है, उस वक्त भी महिलाओं को कुछ इसी नजरिये से देखा जाता था।

हालांकि, अब इसमें बदलाव देखने को मिल रहे हैं। लेकिन जब महिलाओं ने जेब रखने की बात उस वक्त की, तब उनका विरोध हुआ।

लेकिन अब महिलायें पहन सकती हैं मन-मुताबिक कपड़े

हालांकि, अब महिलाओं के कपड़ो को लेकर कई तरह के परिवर्तन आए हैं, लोगों को मानसिकता भले ही न बदली हो लेकिन जिसे समाज अब महिलाओं को उनके तौर तरीकों से जीने के लिए रोक नहीं सकता।

अब महिलायें जैसे मन चाहे कपड़े पहन कर घूम सकती है। इस सदी की महिलाओं ने पितृसत्ता के खिलाफ चल रही इस लड़ाई में इतनी आज़ादी तो हासिल कर ली है।

Story Source: http://www.royalkhabar.com/in-do-cheejon-kee-vajah-se-ladakiyon-kee-shart-mein-nahin-hotee-jeb-jaaniye-kya-hai-vajah/

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें