अभी अभी- मोदी शाह के निशाने पे चढ़ा पुजारी योगी, बचना मुश्किल

शेयर करें

गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में समाजवादी पार्टी को मिली जीत के बाद सियासी गलियारों में उनकी जीत के मुकाबले बीजेपी की हार के चर्चे हो रहे हैं।

जहाँ गोरखपुर में पिछले क़रीब तीन दशक से सत्ता जमाए हुए थी, यहाँ से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सांसद थे। उनके सीएम बनने के बाद ये सीट खाली हुई थी। इसीलिए यहां मिली हार से बीजेपी कुछ ज़्यादा सकते में है।

बताया जाता है कि साल 2014 में भी बड़े अंतर से योगी की जीत इसीलिए संभव हो पाई क्योंकि सपा और बसपा दोनों दलों ने इसी समुदाय के उम्मीदवार उतारे थे और उनके वोट बँट गए।

गोरखपुर और फूलपुर उपचुनाव में हार के बाद सकते में बीजेपी

फूलपुर में तो बीजेपी ने 2014 में पहली बार जीत हासिल की थी। जहां से भाजपा के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य 52 फीसदी वोट पाकर जीते थे। लेकिन इस उपचुनाव में सपा उम्मीदवार से उन्हें करारी शिकस्त मिली।

ये दोनों सीटें बीजेपी के लिए काफी अहम मानी जाती थी, जिसपर सपा-बसपा ने अपना झंडा गाढ़ दिया है। इस उपचुनाव में बीजेपी को हार से काफी तगड़ा झटका लगा है।

गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनावों में भाजपा की बुरी हार और हाल में उत्तर प्रदेश के चार दलित सांसदों की नाराजगी के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने चिंता जताई है।

सीएम योगी से नाराज़ चल रहे दलित नेता

गौरतलब है कि यूपी से भाजपा के चार दलित सांसदों सावित्री बाई फुले, छोटे लाल, यशवंत सिंह और अशोक डोहरे ने दलितों के खिलाफ अत्याचार को लेकर राज्य और केंद्र के पार्टी नेतृत्व के समक्ष अपनी नाराजगी जताई है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक यूपी के सीएम योगी को केंद्र सरकार द्वारा दिल्ली बुलाया गया था। इस दौरान उन्होंने पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की। जिसमें अमित शाह ने भी कुछ क्षेत्रों में राज्य के नेतृ्त्व के विफल रहने पर अपनी चिंता जाहिर की।

योगी आदित्यनाथ पर बीजेपी अध्यक्ष ने जताई चिंता, ले सकते हैं बड़ा फैसला

 

पार्टी के अंदरूनी सूत्रों के हवाले से यह भी दावा किया गया है कि इस मुलाकात का बहुत जल्द ही असर देखने को मिलेगा। अगर भाजपा की सरकार में कोई बड़ा बदलाव होता है तो इसमें किसी को कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए।

इस हार से यूपी राजनीति में योगी आदित्‍यनाथ का कद छोटा होगा, इतना ही नहीं राष्‍ट्रीय राजनीति में भी उनकी भूमिका पर असर पड़ेगा। अब अमित शाह राज्य के दौरे पर आने वाले हैं। यहीं वह जमीनी स्तर पर स्थिति का मूल्यांकन करेंगे।

Story Source: http://www.india.com/hindi-news/uttar-pradesh/pm-modi-shah-ask-up-cm-yogi-adityanath-why-all-is-not-well/


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े