चुनाव से पहले कांग्रेस ने दिखाया दम, भाजपा को दी करारी शिकस्त

शेयर करें

साल 2014 में बीजेपी ने नारा दिया था कि देश के अच्छे दिन लाएंगे। लेकिन चार सालों में बीजेपी ने ऐसे काम किये कि अब जनता उनके बुरे दिन लाने वाली है। गौरतलब है कि आने वाले कुछ ही महीनों में देश के तीन अहम राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इन तीनों राज्यों में इस वक़्त बीजेपी की सरकार है। ये राज्य में मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान। हालांकि ये तीनों राज्य बीजेपी का गढ़ माने जाते हैं। लेकिन इस बार ऐसे आसार बनते नज़र आ रहे हैं कि इन राज्यों में बीजेपी अपना किल्ला नहीं बचा पाएगी।

1. राहुल की अगुवाई में कांग्रेस हुई मजबूत


राहुल गाँधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी की स्थिति पहले से बहुत मजबूत हो गई है। जिसके नतीजे हमें राजस्थान और मध्यप्रदेश में हुए उपचुनाव में देखने को मिले थे। यहाँ पर कांग्रेस ने अपनी जीत का परचम लहराया था। जिसके बाद बीजेपी सकते में आ गई थी। अब बीजेपी के लिए एक और बुरी खबर सामने आई है।

2. छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की बड़ी जीत

बीजेपी शासित छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले वार्ड 26 में हुए पार्षद चुनाव के नतीजे बुधवार सुबह जारी कर दिए गए हैं। कांग्रेस के एजाज अंसारी ने भाजपा प्रत्याशी को पछाड़ते हुए 107 वोट से जीत दर्ज की है। दो चरण की गिनती के बाद कलेक्टर ने एजाज अंसारी को विजेता घोषित कर दिया। जिसके बाद कांग्रेसी खेमे में खुशी की लहर दौड़ गई। जीत का परचम लहराते ही कांग्रेसियों ने जमकर जश्न मनाया।

3. बीजेपी के गढ़ में बजा कांग्रेस का डंका

आपको बता दें कि कुछ महीनों बाद विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। विधानसभा चुनाव के कुछ महीने पहले कांग्रेस ने एक ऐसे वार्ड में जीत हासिल की है। जहां से भाजपा हर चुनाव बहुत आसानी से जीतती रही है और काफी मज़बूत मानी जाती है। यहाँ पर नगर निगम में भाजपा की सत्ता है। यहाँ भाजपा के ही महापौर हैं और आधे से ज़्यादा पार्षद भी भाजपा के ही हैं। ऐसे में भाजपा का ये सीट हारना बड़ा माना जा रहा है।

4. सकते में आई बीजेपी

राज्य के मुख्यमंत्री रमन सिंह के विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस की जीत होना आने वाले चुनाव में बीजेपी के लिए बड़ी चिंता का कारण बन सकता है। इससे पहले हाल ही में छत्तीसगढ़ की अहिवारा विधानसभा क्षेत्र में बीजेपी के 300 कार्यकर्ताओं ने पार्टी का साथ छोड़कर कांग्रेस का दामन थामा है। इतनी बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ताओं का हाथ से निकलना बीजेपी के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

निष्कर्ष:


छत्तीसगढ़ में बीजेपी को जिस तरह से एक के बाद एक तगड़े झटके मिल रहे हैं, उससे साफतौर पर देखा जा सकता है कि लोगों ने अब राज्य में बीजेपी की सत्ता से छुटकारा पाने का फैसला ले लिया है।


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े