शेयर करें
  • 3.3K
    Shares

केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी का मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट पूरी तरह से मटिया मेट हो चुका है।

जिन विदेशी निवेशकों को भारत में लाने के लिए पीएम मोदी अलग अलग देशों के दौरों पर पैसे लुटा रहे थे।

अब वही कम्पनिया भारत में बिज़नेस न खोलने की बात कर रही हैं।

इस विदेशी कंपनी ने ली भारत से अलविदा

अब खबर सामने आ रही है कि जनरल मोटर्स की शेवरलेट कंपनी ने भारत में अपने सभी कारों के शोरूम बंद कर दिए हैं। अब कंपनी भारत में अपने मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट को ही ऑपरेट करेगी। अब भारत में जनरल मोटर्स के दो प्लांट बैंगलुरु और मुंबई में रहेंगे।

मार्किट में अब नहीं बिकेंगी जनरल मोटर्स की कारें

बताया जा रहा है कि कंपनी ने ये फैसला भारतीय कार बाजार में अपनी कम होती हिस्सेदारी को देखते हुए लिया है। जनरल मोटर्स ने साफ़ कर दिया है कि अब शेवरलेट के बाजार सही नहीं है।

आपको बता दें कि जनरल मोटर्स के इंटरनेशनल ऑपरेशन के चीफ स्टाफ अधिकारी ने हाल ही में दिए गए एक इंटरव्यू में बताया है कि उनकी कंपनी भारत में मुख्य रूप से मैक्सिको और लेटिन अमेरिका से एक्सपोर्ट कर दीजिए।

भारत में पड़ेगा रोज़गार पर बुरा असर

भले ही भारतीय बाजार तेजी से बड़ा है लेकिन ऐसे मौके पर एक बड़ी इंटरनेशनल कंपनी के भारत में बंद होने का असर भारतीय बाजार पर गहरा पड़ेगा। इतनी बड़ी कंपनी बंद होने के कारण कई भारतीय लोगों की नौकरियां जा चुकी हैं।

फेल हुआ मोदी सरकार का मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट

गौरतलब है कि भारतीय सरकार की अंतरराष्ट्रीय निवेशकों के लिए नीतियां इतनी प्रभावशाली नहीं है कि भारत में विदेशी कंपनियां अपना व्यापार अच्छे से कर सके। सबसे खतरनाक बात ये है कि अगर यूं ही विदेशी कंपनियां भारत में अपना बिज़नेस बंद करती रही तो देश में रोज़गार संकट गहरा जायेगा।


शेयर करें
  • 3.3K
    Shares