तीन बीवियों के साथ ऐश कर रहा है ये हिन्दू भिखारी, करता है ये बिजनेस... - वायरल इन इंडिया - Viral in India - NEWS, POLITICS, NARENDRA MODI

तीन बीवियों के साथ ऐश कर रहा है ये हिन्दू भिखारी, करता है ये बिजनेस…

तीन बीवियों के साथ ऐश कर रहा है ये भिखारी, करता है ये बिजनेस
वैसे तो दुनिया में कई भिखारी है जो भीख मांगने के बाद अपना जीवन यापन करते है। वहीं इसके सहारे वे अपनी जरुरत के सामान का इस्तेमाल कर पाते है। लेकिन क्या आपने लखपति भिखारी को देखा है। क्यों हो गया ना आप भी हैरान।

आज हम आपको ऐसे भिखारी से मिलाने जा रहे है जो लखपति भिखारी है। ये मामला झारखंड के चक्रधरपुर का है। यहां एक भिखारी भीख मांगते मांगते लखपति बन गया है।

अब आप सोच रहे होंगे कि कैसे एक भिखारी जो भीख मांग कर अपना गुजारा करता है वो लखपति कैसे बन गया। वहीं इस भिखारी ने आज तक नहीं सोचा होगा कि वे कभी इतना लखपति हो पाएगा।

आज उस भिखारी ने अपने आपको स्टेल कर लिया है। आपको बता दें आज इस भिखारी के पास वो सब चीजे है जो एक अच्छे खासे इंसान के पास होती है। आज ये भिखारी अपने परिवार को एक बेहतर जिदंगी दे रहा है। तो चलिए जानते है कि भिखारी के लखपति बनने के बारें में ।

ये है लखपति भिखारी

अगर आप कभी झारखंड के रेलवे स्टेशन पर जाएंगे तो वहां का हर एक भिखारी लखपति है। जी हां आपको बता दें कि वहां बैठे हर एक भिखारी की एक महीने की कमाई 30 हजार रुपए से ऊपर है।

आज के समय में 30 हजार रुपए कमाना कोई आम बात नहीं होती है लेकिन वहां का हर भिखारी 30 हजार रुपए महीने कमाते है। लेकिन गैर करने वाली बात ये है कि इस भिखारी की तीन तीन बीवीयां है।

इसके साथ ही इस भिखारी की सिमडेगा नाम की जगह पर एक बर्तन की भी दुकान है। वहीं इस भिखारी को कई लोग छोटू बारिक के रुप में भी जानते है तो कुछ लोग उसे लखपति भिखारी के नाम से भी जानते हैं।

भीख मांग कर खोला अपना बिजनेस

आपको इस भिखारी के बारें में बता दें कि छोटू बारिक पैरों से दिव्यांग है और वे एक कंपनी का मेंबर भी है। ये भिखारी कोट टाई पहनने के बाद ही मीटिंग अटेंड करता है। 40 साल की उम्र में दिव्यांग होने के बाद भी ये भिखारी के पास इतना सब कुछ होना इसके लिए बहुत बड़ी बात है। लेकिन इनका लखपति होने के बाद भी ये भिखारी लोगों से भीख मांगता है।

आपको बता दें कि ये भिखारी रोज ट्रेन में भीख मांगता है और बिना किसी पूंजी के इस भिखारी ने अपना बिजनेस खड़ा कर दिया है। जिसकी वजह से इसने अपने गांव में बर्तन की दुकान भी खोल दी है जिससे इसके बीवी बच्चों का लालन पालन अच्छी तरह हो जाता है। ये लखपति भिखारी अपने पास स्मार्टफोन भी रखता है।

इसके साथ ही इस भिखानी ने अपने बारें में बताते हुए कहा कि ये मूल रुप से चक्रधर पुर के पोटका गांव का रहने वाला है और बचपन से ही दिव्यांग है। परिवार गरीब था जिसकी वजह से इसने भीख मांगनी शुरु की और तब से ये अब तक भीख मांग कर एक लखपति भिखारी बन गया है। वहीं रेलवे स्टेशन और ट्रेनों में भीख मांगते छोटू को देखकर कोई नहीं कहेगा ये एक लखपति भिखारी है।

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

Close