शेयर करें

एक समय ऐसा भी था जब धरती में रहने वाले इंसानों की औसत उम्र 100 या उससे ज्यादा ही होती थी, लेकिनल आज इंसानों द्वारा धरती पर किए जा रहे क्रियकलापों व बदलते मौसम के साथ मनुष्य की जीवनशैली में भी बदलाव आया है।

जिसका असर सीधा इंसानों की सेहत व आगे आने वाले विरासत पर पड़ रहा है। जहां गलत खान-पान और खराब हवा का असल सेहत के साथ उम्र को भी प्रभावित कर रहा हैं वहीं ऐसे भी कुछ लोग हैं जो 100 साल तक जीते हैं।

आज इंसानों की लंबी जिंदगी जीना भी बन गयी है चुनौती

आज के समय में यह कल्पना करना मुश्किल हैं कि कोई शख्स 100 साल से ज्यादा की जिंदगी जीता है। किसी समय में यह बहुत आम बात मानी जाती थी कि इंसान 100 सालों से ज्यादा की जिंदगी जीते हैं। लेकिन आज इंसानियत के इस दौर में ऐसा होना मानों बहुत मुश्किल हो गया है।

दूसरी तरह से देखें तो लोग इसे किसी चमत्कार से कम नहीं समझते कि इंसाम की 100 साल की उम्र से ज्यादा की जिंदगी जीए। लेकिन यहां हम आपको ऐसे ही चमत्कार के बारे में बताने जा रहे हैं। इन शख्स की उम्र व इनके बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

उम्र का लंबा सफर तय करने वाले इस शख्स की सच्चाई कर देगी आपको हैरान

आखिर उम्र के इस पड़ाव को तय करना जहां इतना मुश्किल है वहां इस शख्स की उम्र जानकर तो चौंकना जाहिर सी बात है। क्योंकि आज जहां दुनिया में हर कई विकास और नई चीजों को तरजीह दी जा रही है न सब में शायद इंसान अपनी वास्तिवक जिंदगी के बारे में भूलता जा रहा है।

147 सालों तक जीए शेख अली अल-अलकमी

लेकिन अगर इन सबके बाद भी आपको ये पता चले कि आज के  वक्त में एक इंसान की उम्र 147 साल से ज्यादा है तो आपको भी हैरानी ही होगी। भले ही यह नामुमकिन लगे पर यह सच है। जिंदगी के 147 साल हर मौसम को देखने के बाद शेख अली अल-अलकमी का निधन हो गया। जहां उम्र के इस पड़ाव को इन्होंने तय किया है वहीं अगर आप इनकी एक दिन की खुराक सुनेंगे तो हैरान रह जाएंगे। सउदी अरब के रहने वाले शेख अली अल-अलकमी अपनी एक अलग और खास डाइट मेनटेन करते थे।

शेख अली अल-अलकमी कार से नहीं बल्कि पैदल किया करते थे सफर

शेख अली के बारे में एक दिलचस्प बात यह भी थी कि कार में सफर करना उन्हें बिल्कुल पसंद नहीं था। वे ज्यादातर पैदल ही सफर किया करते थे। बता दें कि स उम्र में भी उन्होंने अभा से मक्का तक पैदल यात्रा की है। शेख अली के खाने की बात की जाए तो वो हमेशा अपने खेत के अनाज, गेहूं, मक्का, जौ और शहद ही खाया करते थे। साथ ही उन्हें ताज़ा गोशत खाना भी काफी पसंद था।

हर वक्त अपने पास रखते थे कुरान-ए-पाक

इसके अलावा शेख अली के बारे में जो जानकारी मिल पायी है उसके मुताबिक, शेख अली हमेशा अपने पास कुरान-ए-पाक रखते की किताब रखा करते थे और रोज क़ुरान-ए-पाक को पढ़ते भी थे। शेख अली की जिंदगी में ऐसी कई खास बाते रही जो उन्हें बाकी लोगों से अलग बनाती हैं।

समय की तुलना कर इस वक्त को बताते हैं बिल्कुल अलग

शेख अली के परिवार में शेख अली अल-अलकमी का एक बेटा था जिसकी मौत हो गई थी। इसके अलावा उनकी एक बेटी भी है। उन्होंने अपनी मौत से पहले कहा था कि,

“अब के और पहले के जमाने में चीजो और लोगों के बीच काफी अंतर है। पहले लोग और चीजे दोनों ही बेदह खूबसूरत हुआ करती थी, मेरी पीढ़ी के ज्यादातर लोग इस दुनिया से विदा ले चुके हैं इसलिए मै अब अकेला महसूस करता हूं।”

आपको बता दें कि शेख अली अल-अलकमी की मौत की वजह ब्रेन स्ट्रोक था। उनके आस-पास के लोगों का कहना है कि वो इस उम्र में भी जोश और जज्बे से लबरेज थे।

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

शेयर करें