सामन्य ज्ञान - एम्बुलेंस गाडी पर AMBULANCE शब्द उल्टा लिखे जाने के पीछे होती हैं ये बड़ी वजह ! - वायरल इन इंडिया - Viral in India - NEWS, POLITICS, NARENDRA MODI

सामन्य ज्ञान – एम्बुलेंस गाडी पर AMBULANCE शब्द उल्टा लिखे जाने के पीछे होती हैं ये बड़ी वजह !

यूँ तो एम्बुलेंस का महत्त्व और उसकी जरूरत तो हम सभी जानते ही हैं. सबको पता हैं कि कैसे ये स्वास्थ्य सेवा के जरिए लोगों की जान बचाती है.

एम्बुलेंस गाड़ी को देख लोग छोड़ देते हैं रास्ता

हम जब भी सड़क पर किसी एम्बुलेंस गाड़ी को देखते हैं तो किसी शख्स की गम्भीर स्थिति की आशंका के बारे में सोचते हुए मन डर जाता है.

इसी चलते अक्सर सड़क पर लोग हर सम्भव प्रयास कर उसे खुद से पहले निकलने की जगह देते हैं और कामना करते हैं उस व्यक्ति की जान बच जाए.

सरपट रोड पर मरीज़ों की जान बचाते हुए भागती ये गाड़ी कई तरिके से लोगों का ध्यान खींचती है ताकि उसे आगे जाने का रास्ता मिल जाए.

इन्ही तरीकों में से एक हैं एम्बुलेंस गाड़ी पर AMBULANCE शब्द उल्टा लिखें जाना, लेकिन अधिकांश लोग ये वजह नही जानते हैं.

ऐसे में आज हम आपको इसी जानकारी से अवगत कराते हुए इसके पीछे की वाजिब वजह बता रहे हैं.

जानिए आखिर क्यों एम्बुलेंस गाड़ी पर AMBULANCE शब्द लिखा जाता हैं उल्टा ?

अगर कभी आपने कोई एम्बुलेंस गाड़ी देखी होगी तो ये पाया होगा कि गाड़ी के सामने की ओर अंग्रेजी के उल्टे अक्षरों में एम्बुलेंस लिखा होता है.

दरअसल, शब्द को उल्टा लिखने के पीछे का उद्देश्य ये होता है कि आगे चल रही गाड़ियों के ड्राइवरों को पीछे आती एम्बुलेंस गाड़ी के अक्षर साफ दिखाई पड़ सकें.

चूंकि गाड़ी के शीशे में उल्टे अक्षर सीधे पढ़े जाते है इसलिए एम्बुलेंस पर उल्टे अक्षर लिखे जाते हैं, ताकि लोग इसे झट से पढ ले और पीछे आ रही एम्बुलेंस गाड़ी को जितनी जल्दी सम्भव हो आगे निकलने के लिए रास्ता दे सकें.

वो खास तरीके जो लोगों का ध्यान खींचते हैं अपनी ओर

इस तरह के कई और खास तरीकों के साथ ही एम्बुलेंस गाड़ी में लोगों का ध्यान खींचने के लिए और भी तरीके प्रयोग किए जाते हैं.

जैसे कि इलेक्ट्रॉनिक सायरन, फ्लैशिंग लाइट, स्पीकर, रेडियों फोन और अन्य उपकरणों का इस्तेमाल.

ताकि लोग सड़क पर उसके लिए रास्ता छोड़ दें.

अगर पहले के जमाने की बात करे तो उस वक्त एम्बुलेंस गाड़ी में सिर्फ घंटियां बजाकर ही काम किया जाता था.

उसके बाद लाल सायरन का प्रयोग किया जाने लगा. ये सायरन हवा के दबाव से चलते थे.

आज सबसे प्रसिद्ध ह्वेलेन इलेक्ट्रॉनिक सायरन को एम्बुलेंस गाड़ी में उपयोग मे लाया जाता है.

चटक रंगों से खीचा जाता है ध्यान

जानकारी के लिए बता दें कि एम्बुलेंस गाड़ी को सभी गाड़ियों से अलग दिखाने के पीछे मकसद बिलकुल साफ होता है कि इस गाड़ी के अलग दिखने से लोग इसे जल्दी पहचान लेते हैं और इसे आगे जाने के लिए जगह दे देते हैं.

एम्बुलेंस को अलग दिखाई पड़ने के लिए अक्सर उसे चमकदार रंगों से सजाया जाता है.

वैसे जरूरी नहीं है कि वह रंग नीला और लाल हो. क्योंकि कई गाड़ियाँ पीले, हरे, नारंगी और दूसरे रंगों में भी दुनियाभर में पाई जाती हैं.

जिसका उद्देश्य भी यही होता है कि उन्हें लोग जल्द पहचानें और आगे जाने देने के लिए उनके लिए रास्ता छोड़ दें.

निष्कर्ष

आपको बता दें कि एम्बुलेंस केवल मोटरगाड़ियों में ही नहीं होतीं. एम्बुलेंस हवाई जहाजों, हेलिकॉप्टरों से लेकर नावों, घोड़ागाड़ियो, मोटर साइकिलों और साइकिलों पर भी होती हैं. ऐसे में अब जब भी आप किसी भी एम्बुलेंस गाड़ी में AMBULANCE शब्द उल्टा पढ़ें तो समझ जाइएगा कि असल में इसके पीछे क्या वजह होती है.

Related Articles

Close