आतंकी अफजल गुरु के बेटे गालिब ने कायम की एक नई मिसाल..सुनकर गद-गद हो जाएंगे आप

शेयर करें

साल 2001 में संसद पर हुए आतंकी हमले में फांसी की सजा काट चुके मुख्य आरोपी आतंकी अफजल गुरू के बेटे गालिब अफजल गुरू ने अपनी मेहनत और लगन के बल पर ये साबित कर दिया है कि जरुरी नहीं आतंकी का बेटा आतंकी ही हो. जी हाँ गालिब अफजल गुरू ने अपने प्राथमिक पढ़ाई में हजारों बच्चों को पछाड़ कमाल कर दिखाया हैं. दरअसल, गालिब अफजल ने जम्मू एंड कश्मीर स्टेट बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (JKBOSE) की 12वीं की परीक्षा में डिस्टिन्कशन से साथ पास होकर दुनियाभर में एक नई मिसाल कायम की है.

10वी में भी मेहनत के दम पर लूटी थी वाहं-वाहीं!

अगर याद हो तो 2 साल पहले गालिब उस वक्त भी सुर्ख़ियों में आए थे जब उन्होंने 10वीं की बोर्ड परीक्षा में 95 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे. अब 12वी में भी उन्होंने कुल 500 में 441 अंक हासिल किए हैं. जिसमें उन्हें पर्यावरण विज्ञान में 94, रसायन शास्त्र में 89, भौतिकशास्त्र में 87, जीवविज्ञान में 85 और अग्रेजी में 86 फीसदी अंक मिले हैं.

source

डॉक्टर बनना चाहता है अफजल गुरू का बेटा

बीते गुरूवार जैसे ही नतीजे आए तो उसे देख न केवल गालिब उत्साहित दिखे बल्कि उसका परिवार भी उनकी इस कामियाबी से बेहद खुश दिखा. गालिब मेडिकल में अपना नाम कमाना चाहते है और जिस तरह वो मेहनत कर रहे हैं ऐसा लगता है कि डॉक्टर बनने का उनका ये ख्वाब जल्द पूरा होने वाला हैं.

source

2001 के संसद हमलें में 2013 में मिली थी अफजल गुरू को फांसी 

बताते चले कि गालिब के पिता आतंकी अफजल गुरू ने भी मेडिकल में पढ़ाई की हुई थी. हालांकि वो अपनी पढ़ाई को पूरा नही कर सके थे. इसके बाद 13 दिसंबर 2001 को जब दिल्ली की संसद आतंकी हमले से गूंज उठी थी तो इस मामले में अफजल गुरू को मुख्य दोषी पाया गया था जिसके आरोप में साल 2013 में अफजल गुरू को फांसी दे दी गई। 


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े