दो साल बाद सऊदी अरब से लौटा था 22 साल का शाहरुख, लोगों ने पीटकर चढ़ा दिया फांसी पर - वायरल इन इंडिया - Viral in India - NEWS, POLITICS, NARENDRA MODI

दो साल बाद सऊदी अरब से लौटा था 22 साल का शाहरुख, लोगों ने पीटकर चढ़ा दिया फांसी पर

समाज में लोगों की हैवानियत इस कदर देखने को मिल रही है कि कभी तो इस पर यकीन कर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है। ऐसा ही एक दर्दनाक मामला सामने आया है जहां सऊदी अरब से 2 साल बाद अपने गांव लौटे शख्स को वहां के लोगों ने काफी पीटा उसके बाद उसे फांसी पर लटका दिया।

2 साल बाद सऊदी से लौटे युवक की कर दी गई हत्या

बागपत में सिंघावली अहीर थाना इलाके के बासौद गांव के एक युवक की काफी पीटाई की गई जिसके बाद युवक के गले में फांसी का फंदा लगाकर उसकी हत्या कर दी गई। हत्या करने के बाद अगली सुबह युवक का शव अमरपुर गढ़ी रजबाहे पुल के नीचे पड़ा हुआ मिला। जांच के लिए पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

मृतक युवक के पिता ने अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट कराई दर्ज

मीनगर सराय के बासौद के रहने वाले नानू का 22 साल का बेटा शाहरुख सऊदी अरब में काम करता था। शाहरुख को 10 दिन ही हुए थे जब वह 2 साल बाद अपने गांव लौटकर आया था। जब शाहरुख घर से टंकी फीटिंग के ठेकेदार रुस्तम कार लेकर गया उसके बाद वह वापस नहीं आया।

अगली सुबह सिंघावली अहीर थाना पुलिस को जानकारी मिली कि अमरपुर गढ़ी राजबाहे पुल के नीचे एक युवक का शव पड़ा हुआ है। जानकारी मिलते ही थानाध्यक्ष ओमवीर सिंह पुलिस टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए और शव को रजबाहे से निकालकर जांच के लिए ले जाया गया।

शव मिलने पर वोटर आईडी से की गई पहचान

शाहरुख की जेब में मिला उसका वोटर आईडी कार्ड की मदद से उसकी पहचान की गई। जांच में सामने आया कि युवक की काफी पीटाई की गई है और उसके बाद उसे फांसी पर लटकाया गया है। उसके पूरे शरीर पर पिटाई के जख्म हैं।

शाहरुख की हत्या होने की खबर से उसके परिवार में एकदम कोहराम सा मच गया। काफी भीड़ में परिवार व गांव वाले पहुंच गए। पुलिस ने बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया। अपने बेटे की हत्या पर शाहरुख के पिता नानू ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।

थानाध्यक्ष ओमवीर सिंह का बयान

हत्यारोपियों की तलाश शुरू कर दी गई है। शीघ्र ही मामले का खुलासा होगा।

शाहरुख कुछ दिन पहले ही मुजफ्फरनगर के टंकी फीटिंग करने वाले ठेकेदार रुस्तम की कार लेकर आया। अगले दिन सुबह नौ बजे वह घर से यह कह कर निकला कि वह ठेकेदार की कार लौटाने जा रहा है। ठेकेदार रुस्तम उसे पटरी के पास मिला।

शाहरुख ठेकेदार रुस्तम को कार देकर वहां से चला गया, लेकिन रात तक घर नहीं लौटा। परिवार वालों ने जब रुस्तम से बात की तो उसने कहा कि वह 12 बजे के लगभग उसे कार देकर चला गया। उसे नहीं पता कि वह कहां गया है। अगले दिन की सुबह शाहरुख का शव राजबाहे में पड़ा मिला।

हत्या से पहले काफी पीटा गया

शाहरुख के पिता नानू ने बताया कि शाहरुख की हत्या करने से पहले उसकी बेरहमी से पिटाई की, क्योंकि उसका पूरे शरीर पर चोट के निशान हैं। उसको चमड़े की बेल्ट या फट्टे से पीटा है।

पिटाई के बाद गले में फांसी का फंदा लगाकर मार दिया। उसके बेटे की किसी से कोई रंजिश नहीं है। वह तो सऊदी अरब में ट्रक चलाता था। दो साल बाद घर लौटा। उसके हत्यारों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाए।

बहन ने बताया शाहरुख को मैसेज करना नहीं आता

बहन मामून खान ने बताया कि,

मंगलवार की शाम उसके फोन पर भाई शाहरुख के फोन से मैसेज आया कि अब मैं घर नहीं आऊंगा। मैं मुंबई घूमने के लिए जा रहा हूं।

इसके बाद उसने भाई के मोबाइल पर कॉल की, लेकिन उसका मोबाइल स्विच ऑफ मिला। उसने बताया कि उसके भाई को मैसेज लिखना नहीं आता था। किसी दूसरे युवक ने गुमराह करने के लिए फोन पर मैसेज किया और मैसेज करने के बाद मोबाइल फोन मृतक की जेब में डाल दिया।

शाहरुख के पिता करते हैं मजदूरी

शाहरुख के नौ भाई-बहन हैं और वह खुद दूसरे नंबर का है। शाहरुख से बड़ी उसकी बहन है। उसके पिता नानू जमीन ठेके पर लेकर खेती करते हैं और मजदूरी कर अपने बच्चों को पालते हैं। शाहरुख घर की हालत को देखते हुए पैसों के लिए सऊदी अरब गया था।

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े

Close