बिहार से चौंका देने वाला वाक्या, मुर्गी ने दिया तीन पिल्लों को जन्म

शेयर करें

खबरें तो हम सभी पढ़ते हैं, लेकिन कई बार हम इस तरह की कुछ खबरें पढ़ लेते हैं जिन पर यकीन कर पाना मुश्किल हो जाता है। हालांकि इस पर यह जरुर कहा जा सकता है कि दुनिया इस तरह के किस्सों में भरी हुई हैं। कहीं किसी न किसी तरह की चौंका देने वाली खबरें हम सुनते व पढ़ते ही रहते हैं।

जब मुर्गी ने अंडे के बजाय दे दिया पिल्लों को जन्म

दोस्तों आपने यह कहावत जरुर सुनी होगी कि मुर्गी पहले आई या अंडा ये एक ऐसा सवाल जिसका जवाब तो हम सभी ढूंढ रहे हैं और इसका असल व सही जवाब का भी हमें इंतजार रही हैं। लेकिन क्या आपने मुर्गी को लेकर यह कभी सुना है कि उसने अंडे नहीं बल्कि पिल्लों को जन्म दिया है।

जी हां, आपने सही सुना यहां हम आपको ऐसा ही एक किस्सा बताने जा रहे हैं, जहां एक मुर्गी ने अंडों के बजाय बिल्लों को जन्म दिया है। इस खबर को लोग काफी पढ़ सुन व शेयर कर रहें हैं क्योंकि यह है इतनी दिलचस्प। तो जानिए इस खबर का पूरा सच। कुछ दिन पहले ही कनछेदवा गांव के हरपुरराय के भोला मियां नाम के शख्स की मुर्गी ने अंडें देने की बजाय दो पिल्लों को जन्म दिया जिससे यह मामला एकदम से सुर्खियों में आ गया है।

कुछ इस तरह घटा था यह वाक्या, गांव में आग की तरह फैली खबर

जानकारी के मुताबिक हरपुरराय के भोला मियां की मुर्गी ने पहले जब अंडा न देकर एक कुत्ते के पिल्ले के आकार का बच्चे को जन्म दिया, तो भोला की पत्नी तो उसी समय माथा पीटने  लगी थी। इस पर महिला मुर्गी को कोसते हुए पड़ोसी राकेश सिंह को मुर्गी का यह किस्सा सुना रही थी कि मुर्गी ने उसके दुःख को दोहराते हुए उसी तरह एक और यानी कि दूसरे पिल्ले को भी जन्म दे दिया।

गांव वालों ने बनाई तरह तरह की बातें

मुर्गी द्वारा पिल्ला जनने की खबर से पूरे गांव में बवाल मच गया खबर भी आग की तरह फैल गई। लोगों की भीड़ जमा होने लगी। तरह-तरह की बाते लोगों ने बनाना शुरु कर दिया। इस घटना को लेकर औरतों की जुबान पर घोर कलयुग आने की बातों ने जोर पकड़ लिया।तो ग्रामीण अजय कुमार ने बताया कि देशी नस्ल की ये मुर्गी पहले अंडे देती थी।

पिल्लों को जन्म देने के बाद मुर्गी ने तोड़ा दम और डॉक्टर ने दी यह राय

आपको बता दें कि दोनों पिल्लों को जन्म देने के कुछ समय बाद ही मुर्गी ने दम तोड़ दिया था। सहायक जिला कुक्कुट पदाधिकारी डॉक्टर सुनील कुमार ने हैरान होते हुए कहा कहा कि 30 साल के अनुभव में ऐसा कभी नहीं देखा या सुना है। जन्म लेने वाले बच्चों के शेप में विकृति हार्मोनल इनबैलेंस के चलते बड़े पशुओं में होता था। मुर्गी में फीटल डिफॉर्मिटी का केस पहली बार सुनने को मिला है।


शेयर करें