नोट पर इंसानों से लेकर जानवरों की फ़ोटो क्यों छपी होती है?

शेयर करें

आज के वक्त में पैसों के बिना लोगों की जिंदगी चलना नामुमकिन हो गया है। पैसे की अहमियत इतनी बढ़ गई है कि लोग इसके लिए मरने और मारने तक का परहेज नहीं करते हैं।

अब लोगों को हर रिश्ते नाते से ऊपर पैसा ही दिखता है। पैसों के मामले में भी इस नोटों की संख्या मायने रखती है, हमें बस नोट पर लिखी हुई 100 , 500 , 1000  और 2000  की संख्या को ही महत्व देते हैं।

उसके अलावा लोगों के पास इतनी फुर्सत ही कहाँ होती है की वह  नोटों पर लिखी अन्य बातों पर भी ध्यान दें  बहुत ही कम लोग नोटों पर लिखी गई बातों पर ध्यान देते हैं। तो आईये आपको आज इन नोटों पर लिखी गई कुछ ख़ास बातों के बारे में बताते हैं।

नोटों पर है जानवरों से लेकर इंसानों की तस्वीरें

हर भारतीय नोट पर इंसानों, जानवरों, प्रकृति से लेकर आजादी के आंदोलन से जुड़ी तस्वीरें छपी होती है। 20 रुपए के नोट पर अंडमान द्वीप की तस्वीर है।

वहीं, 10 रुपए के नोट पर हाथी, गैंडा और शेर छपा हुआ है, जबकि 100 रुपए के नोट पर पहाड़ और बादल की तस्वीर हुआ करती थी और 500 रुपए के नोट पर आजादी के आंदोलन से जुड़ी 11 मूर्ति की तस्वीर छपी थी। जोकि अब प्रचलन में नहीं रहे हैं।


इसके अलावा नोटों पर एक ख़ास तरह की बात बहुत ही छोटे अक्षरों में लिखी होती है, जो बहुत ही ध्यान से देखने पर पढ़ी जा सकती है।
ये वो वाक्य है ‘मैं धारक को अदा करने का वचन देता हूं..’ क्या आप जानते हैं इस वाक्य के पीछे एक ख़ास वजह है।

जितनी करेंसी RBI  छापती है, उतना गोल्ड अपने पास रखती है

यह सवाल कई कई सरकारी एक्साम्स और इंटरव्यू में भी पूछा जाता है। ऐसे में आपको इस बारे में पता होना जरूरी है। दरअसल, आरबीआई  जितने की करंसी प्रिंट करती है उसी कीमत का गोल्ड अपने पास सुरक्षित रखती है।

आरबीआई आपको ये यकीन दिलाने के लिए यह बात लिखती है कि अगर आपके पास 100 रूपये है तो इसका मतलब यह है कि रिज़र्व बैंक के पास आपका 100 रुपये का सोना रिज़र्व पड़ा है।

इसी तरह से अन्य नोटों पर भी यह लिखा होने का मतलब है कि जो नोट आपके पास है आप उस नोट के धारक है और उसके मूल्य के बराबर आपका सोना रिजर्व बैंक के पास है, और रिजर्व बैंक वो सोना उस नोट के बदले आपको देने के लिए वचनबद्ध है।

नोट पर लिखी होती हैं 15 भाषाएँ

इसके अलावा हिंदी और अंग्रेजी के साथ भारतीय नोट में 15 भाषाओं का इस्तेमाल होता है। कोई भी नोट जैसे 10, 20, 50 पर हिंदी और अंग्रेजी के साथ असमी, बंगाली, गुजराती, कन्नड़, कश्मीरी, कोंकणी, मलयालम, मराठी, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, संस्कृत, तमिल, तेलुगु और उर्दू में उसकी कीमत लिखी होती है।

हिंदी और अंग्रेजी का इस्तेमाल नोट के अगले हिस्से में होता है। बाकी भाषाएं नोट के पिछले हिस्से पर लिखी होती हैं।


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े