हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पूरी कहानी जो 55 साल के कैरियर में कभी चुनाव नहीं हारे

ये सुनना वास्तव में किसी आश्चर्य से कम नहीं है कि कोई व्यक्ति राजनीती में 55 साल रहा हो और इस दौरान कभी भी कोई चुनाव न हारा हो लेकिन ये हकीकत में हुआ है | हम बात कर रहे हैं हिमाचल प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की जो केन्द्रीय मंत्री रह चुके हैं और कांग्रेस के सीनियर नेता हैं | इन्होने अपनी राजनीती की सोच से सबको हैरान कर दिया है |

वीरभद्र ने जितने भी चुनाव में हिस्सा लिया वो कभी नहीं हारे और साथ ही 6 बार हिमाचल के मुख्यमंत्री रहने के अलावा पांच बार लोकसभा का चुनाव जीतकर सांसद रह चुके हैं | इनके नाम इतनी उपलब्धियां है कि दरअसल लिखने को बैठे तो उपलब्धियों में ही आलेख खत्म हो जायेगा |

वीरभद्र का जन्म 1934 में हुआ था और जब राजनीती में आये तो 8 बार विधानसभा का चुनाव जीता और 6 बार हिमाचल के मुख्यमंत्री रहे | इनके नाम 3 बार केन्द्रीय सरकार में मंत्री रहने का नाम भी दर्ज है | अभी कहा जा रहा है कि वीरभद्र सिंह को अर्की विधानसभा से चुनाव लड़ाया जा रहा है क्योकि इस सीट पर 10 साल से भाजपा ने कब्ज़ा किया हुआ है |

जब केंद्र में डॉ मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सरकार थी वीरभद्र को इस्पात मंत्रालय का जिम्मा देकर उन्हें केबिनेट मंत्री भी बनाया गया था | इससे पहले वीरभद्र सिंह 1976-77 तक इंदिरा गाँधी की सरकार में भी नागरिक उड्डयन और पर्यटन मंत्री रह चुके हैं | इसके अलावा इंदिरा की ही 1982-83 की सरकार में वो एक बार और उद्योग राज्यमंत्री भी रहे हैं |

हालाँकि अभी विपक्ष वालों ने लम्बे समय से उन पर लगातर भ्रष्टाचार के मामले बनाये हुए हैं तो वो विवादों में घिरे हुए हैं लेकिन इससे उनके काम करने के तरीके और जनता की उनकी मोहब्बत में कोई कमी नहीं आई है क्योकि उनका काम बोलता है और अगर काम नहीं करते तो जनता इतने लम्बे समय तक उन्हें सत्ता में लगातार न रहने देती और हमें उसका परिणाम मिल जाता लेकिन विपक्ष अपनी पूरी ताकत लगाने में लगा हुए है कि उन्हें भ्रष्टाचार के मामले में घेरा जाए |

इसी सब के चलते पार्टी ने उन्हें अर्की विधानसभा से चुनाव लड़ाने का फैसला किया है जहाँ पर भाजपा लम्बे समय से अपना सिक्का जमाये हुए  है |ये सीट शिमला लोकसभा के सोलन जिले में है और इसकी वोटिंग 84834 है |

ये सीट अपने आप में बहुत खास है क्योकि यहाँ की जनता ने अपना भरोसा पहले कांग्रेस पर दिखाया और 1993-2003 तक तीन विधानसभा में कांग्रेस को जिताया लेकिन 2007 के जो चुनाव हुए उसके बाद से लगातर दो बार भाजपा पर जनता ने अपना विश्वास दिखाया है लेकिन अब देखना ये है कि यहाँ पर वीरभद्र सिंह क्या कमाल दिखाते हैं |

देखिये वीडियो:-

Source-https://khabar.ndtv.com/news/politicians/profile-of-virbhadra-singh-who-never-ever-lost-any-election-1772738

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट मैं छोड़े

पोपुलर खबरें