गुजरात में भाजपा के गढ़ में जीती कांग्रेस, देखिए वो परिणाम जो मीडिया पचा गया

शेयर करें

गुजरात चुनाव को लेकर जनता के अंदर एक रोष सा देखा जा रहा है क्योकि जिस तरीके से जनता ने वोट किया उसके वोट के साथ खिलवाड़ हुआ है | अभी जैसी गुजरात से खबरें आ रही हैं उसके हिसाब से राजकोट में एक evm की सील टूटी हुई पाई गयी है जो उन लोगों की बात को और बल देता है जो कहते हैं कि यहाँ पर evm से छेड़छाड़ हुई है |

EVM में हुई है गड़बड़ी

आपको बता दें कि हर शातिर चोर एक न एक सुराग ऐसा छोड़ ही जाता है जिससे उसकी चोरी के बारे में क्लू मिल सके और ये राजकोट की evm में ऐसी गड़बड़ी  मिलना वही दिखाता है |

लेकिन इसके बाद भी चुनाव आयोग की चुप्पी बहुत से सवाल खड़ी करती है | इस तरीके से ही अगर सब चलता रहा तो चुनाव करवाने का स्वांग आखिर कब तक रचा जाता रहेगा जब कि नतीजे ऐसे फिक्स ही होने है |

कांग्रेस ने किया शहरों में अच्छा प्रदर्शन

सुबह से जिस तरीके से काउंटिंग चल रही थी उसके हिसाब से कांग्रेस आगे चल रही थी लेकिन जिस प्रकार हार्दिक पटेल ने दावा किया था कि कुछ सीटों पर evm फिक्स है तो उनकी गिनती होने पर कांग्रेस बहुत पीछे चली गयी |

हालाँकि यहाँ के शहरों की जो काउंटिंग हुई वो कांग्रेस के लिए बहुत अच्छा रहा क्योकि यहाँ पर पिछली बार के अपेक्षा कांग्रेस बहुत अच्छा प्रदर्शन करते हुए दिख रही है |

भाजपा के गढ़ में दी भाजपा को मात

हम अगर बात करें गुजरात के चुनिन्दा बड़े शहरों की तो इनमे अहमदाबाद,सूरत और बड़ोदरा जैसे शहर आते हैं और यहाँ पर कांग्रेस ने बहुत बढ़िया करके दिखाया है तभी यहाँ पर कांग्रेस 4-4 सीटों पर आगे चल रही है |

यहाँ पर सबसे ज्यादा गौर करने वाली बात ये है कि ये शहर भाजपा के गढ़ कहे जाते हैं जहाँ पर भाजपा को करारी हार दिख रही है क्योकि पढ़े-लिखे लोगों ने वोट किया है |

चुनाव आयोग नहीं रहा निष्पक्ष

अब एक बात और यहाँ पर गौर करने लायक है कि जब जिन इलाकों में भाजपा का खुलकर विरोध करते हुए लोग सडक पर आये और मोदी के रोड शो में तक ढंग से सौ लोग न इकट्ठे हुए और अमित शाह के काफिले पर अंडे फेंके गये और भाजपा के स्टार प्रचारक योगी के रोड शो को ढंग से लोग न मिले तो इन इलाकों में आखिर अकिसे भाजपा आगे हो सकती है जबकि evm से छेड़छाड़ न की जाए |

चुनाव आयोग को या तो evm का प्रयोग बंद करा देना चाहिए या फिर चुनाव ही कराना बंद कर देना चाहिए क्योकि इनमे खर्चा बहुत होता है जो जनता के टैक्स के पैसे से जाता है और गड़बड़ होकर जब ऐसे ही सब होना है तो बिना चुनाव के ही परिणाम दे दिए जाए |


शेयर करें

अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट में छोड़े